Friday, September 29, 2017

नेता जी मुलायम सिंह यादव ने निभाया अपना पित्रधर्म

  दो दिन पहले समाजवादी पार्टी के संस्थापक नेता जी मुलायम सिंह यादव ने एक बार फिर अपने बेटे अखिलेश यादव के विरोधियों को करारा झटका एक मजे राजनैतिक खिलाड़ी की तरह देकर लोगों को भौंचक्का कर दिया है।दो दिन पहले कुछ लोग यह मान रहे थे कि नेताजी अपने भाई शिवपाल यादव के साथ लोहिया भवन में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में नयी पार्टी का ऐलान कर देगें। नेताजी के प्रति यह अनुमान पिछले एक वर्ष से  लगाया जा रहा है और कई बार लगा कि वह अलग पार्टी बना लेगें लेकिन अंतिम क्षणों वह अपना मन बदलते रहें हैं।एक बाप को इसी तरह होना भी चाहिए क्योंकि पुत्र कितना भी बुरा क्यों न करें लेकिन पिता उसका कभी अहित नहीं कर सकता है। नेताजी  पृतधर्म निभा रहे हैं और वहीं उसी पृतधर्म के वशीभूत होकर अंतिम क्षण अपना निर्णय बदलकर राजनैतिक पंडितों तथा आम लोगों को भौचक्का कर दिया है। मुलायम सिंह यादव को धरती पुत्र विकास पुरूष व मुख्यमंत्री बनने में भले ही एक लम्बा समय लगा हो किन्तु उनके होनहार बेटे को सिर्फ पांच साल लगे।नेताजी जानते हैं कि पार्टी के अधिकांश नेता व उनके समर्थक उनके बेटे के साथ हैं।वह अब यह भी जानते हैं कि अखिलेश से पंगा लेना उतना ही कठिन है जितना अबतक उनके चरखा दाँव को लोग कठिन मानते थे।पुत्रमोह की हमारी पुरानी परम्परा रही है और अगर भक्त श्रवणकुमार के माता पिता ने तो पुत्रशोक में राजा दशरथ की तरह जान तक दे दी है।पुत्रमोह का इस समय दौर चल रहा है और इसमें सिर्फ़ राजनेता ही नही बल्कि समाज के हर स्तर के लोग शामिल हैं।हर व्यक्ति चाहता है कि उसकी आँखों के सामने उनकी संतान अपने पैर के सहारे खड़ी न हो जाय बल्कि दौड़ने लगे।मुलायम सिंह के वार को अखिलेश के अलावा अबतक को झेल नहीं पाया है और यहीं हर बाप की इच्छा होती है उसका उससे अधिक बलवान हो जाय। नेताजी एकता व उम्मीद के सहारे अभी भी परिवार की एकजुटता की राह देख रहें हैं।नेता जी द्वारा दो दिन पहले लिया गया उम्मीद के विपरीत निर्णय का स्वागत योग्य है।जो आशंका चुनाव के समय से की जा रही थी कि पार्टी के कुछ अखिलेश के कुछ विरोधी लोग उनसे जो चाहेगें वह करवा लेगें उसे नेता जी निर्मूल साबित कर दिया।नेताजी ने वहीं कहा वहीं किया जो उनकी आत्मा ने कहा और इससे अलग कुछ भी नहीं कहा या किया।वह जानते हैं कि अखिलेश उनके विकास पथ व जन पथ पर उनसे चार कदम आगे बढ़कर चल रहा है। धन्यवाद।। भूलचूक गलती माफ।। सुप्रभात / वंदेमातरम् /गुडमार्निंग /अदाब /शुभकामनाएं।। ऊँ भूर्भुवः स्वः---------/ ऊँ नमः शिवाय।।।
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
             भोलानाथ मिश्र
   वरिष्ठ पत्रकार/समाजसेवी
  रामसनेहीघाट,बाराबंकी यूपी
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

No comments:

Post a Comment