Friday, September 29, 2017

गोंडा में डॉक्टर की दबंगई पत्रकार को बनाया बंधक

गोंडा भ्रष्टाचार ,दवाओ के  कमीशन और दलाली मे लिप्त  डाक्टर ,जरा सोंचिये अगर भगवान का दूसरा रूप कहे जाने वाले डॉक्टर ही भक्षक बन जाये और मरीजों का इलाज़ करने वाला डॉक्टर भ्रष्टाचार को शह देने के लिए गुंडई पर आ जाये। जी हां ऐसा ही एक भयभीत करने वाला चेहरा गोंडा जिला अस्पताल में तब देखने को मिला जब अस्पताल के कुछ डॉक्टरों ने एक न्यूज़ चैनल में कार्य करने वाले पत्रकार को कवरेज के दौरान बंधक बना लिया। यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना तब हुई जब पत्रकार अस्पताल में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ कवरेज करने जिला अस्पताल में गया हुआ था। बाहर की दवा व बाहर की जांच की बात आये दिन जिला अस्पताल में होती रहती है और इसी काम को अस्पताल में तैनात आई स्पेशलिस्ट डॉ योगेश चंद्र श्रीवास्तव अपने केबिन में अंजाम दे रहा था। जैसे ही पत्रकार को इसकी जानकारी हुई, पत्रकार ने कवरेज करनी की कोशिश की तभी डॉक्टर भड़क गया और पत्रकार को अस्पताल में तैनात डॉक्टरों व उनके मुश्टण्डों ने घेर पत्रकार क़ादिर अंसारी के साथ अभद्रता और गाली गलौज करने लगे। कवरेज कर रहे पत्रकार को ओपीडी में तैनात डॉक्टर योगेश चंद्र श्रीवास्तव ने बाहर से आये लड़कों के साथ मिलकर बंधक बना अपनी ओपीडी के कमरे में बंद कर दिया। गुंडई पर उतारू हो चुके जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने गाली देते हुए पत्रकार को जान से मारने की धमकी भी दे डाली। पत्रकार ने मौका पाते ही अपने साथी पत्रकारों को अपने फोन से सूचित किया। अन्य पत्रकारों को जैसे ही इसकी सूचना मिली उन्होंने तुरंत 100 डॉयल व नगर कोतवाली में इसकी जानकारी दी। मौके पर पहुँची पुलिस ने किसी तरह भ्रष्टाचार में डूबे डॉक्टरों से पत्रकार को बचाया। पीड़ित पत्रकार क़ादिर अंसारी ने बताया की जब आज भ्रष्टाचार में लिप्त डॉक्टर के पास पत्राचारो के साथ मे यह रवैया अपनाते है तो आम मरीजो का क्या हाल होगा फिलहाल इस मामले मे पुलिस अधीक्षक और नगर कोतवाल ने प्राथमिकी दर्ज करने की बात कही है यदि नही करते तो हम पत्रकार नगर प्रसासन के खबरो का करेगे बहिस्कार और दर्ज होकर ही  रहेगी इस डाक्टर के  नाम  प्राथमिकी
    गोंडा से पवन कुमार द्विवेदी आलमीडिया जर्नलिस्ट बेलफेयर एसोसिएशन गोंडा

No comments:

Post a Comment