Friday, September 29, 2017

कहीं आपकी कुंडली में भी तो नही बैठे है ये तीन ग्रह

कही आपकी कुंडली में तीन ग्रह एक साथ तो नही बैठे जाने इनकी युति के योग

 

1. सूर्य+चन्द्र+बुध = माता-पिता के लिये अशुभ। मनोवैज्ञानिक। सरकारी अधिकारी। ब्लैक मेलर । अशांत। मानसिक तनाव। परिवर्तनशील।

 

2. सूर्य+चन्द्र +केतू = रोज़गार के लिये परेशान। न दिन को चैन न रात को चैन। बुद्धि काम ना दे, चाहे लखपति भी हो जाये। शक्तिहीन।

 

3. सूर्य+शुक्र+शनि = पति/पत्नी में विछोह। तलाक हो। घर में अशांति। सरकारी नौकरी में गड-बड़।

 

4. सूर्य+बुध+राहू = सरकारी नौकरी। अधिकारी। नौकरी में गड-बड़। दो विवाह का योग। संतान के लिये हल्का। जीवन में अन्धकार।

 

5. चन्द्र+शुक्र+बुध = सरकारी अधिकारी। कर्मचारी। घरेलू अशांति। बहू -सास का झगड़ा। व्यापार के लिये बुरा। लड़कियाँ अधिक। संतान में विघ्न।

 

6. चन्द्र +मंगल+बुध = मन, साहस , बुद्धि का सामंजस्य। स्वास्थ अच्छा। नीतिवान साहसी ,सोच-विचार से काम करे। पाप दृष्टी में होतो, डरपोक /.दुर्घटना /ख्याली पुलाव पकाए।

 

7. चन्द्र+मंगल+शनि = नज़र कमजोर। बीमारी का भय। डॉक्टर , वैज्ञानिक ,
इंजीनियर , मानसिक तनाव। ब्लड प्रेशर कम या अधिक।

 

8. चन्द्र+मंगल+राहू = पिता के लिए अशुभ। चंचलता। माता तथा भाई
के लिए हल्का।

 

9. चन्द्र+बुध +शनि= तंतु प्रणाली में रोग। बेहोश हो जाना। बुद्धि की खराबी से अनेक दुःख हो। अशांत, मानसिक तनाव। बहमी।

 

10. चन्द्र +बुध+राहू = माँ के लिए अशुभ। सुख हल्का। पिता पर भारी। दुर्घटना की आशंका।

 

 

11. चन्द्र+शनि+राहू = माता का सुख काम। दिमागी परेशानियाँ। ब्लड प्रेशर। दुर्घटना का भय। स्वास्थ हल्का।

 

12. शुक्र+बुध+शनि = चोरियां हो। धन हानी। प्रॉपर्टी डीलर। जायदाद वाला। पत्नी घर की मुखिया।

 

13. मंगल+बुध+शनि = आँखों में विकार। तंतु प्रणाली में विकार। रक्त में विकार। मामों के लिये अशुभ। दुर्घटना का भय।

 

14. मंगल+बुध+गुरू = अपने कुल का राजा हो। विद्वान। शायर। गाने का शौक। ओरत अच्छी मिले।

 

15. मंगल+बुध +शुक्र = धनवान हो। चंचल स्वभाव। हमेशा खुश रहे। क्रूर हो।

 

16. मंगल+बुध+राहू = बुरा हो। कंजूस। लालची। रोगी। फ़कीर। बुरा काम करे।

 

17. मंगल+बुध+केतू = बहुत अशुभ। रोगी हो। कंजूस हो। दरिद्र। गंदा रहे। व्यर्थ के काम करे।

 

18. गुरू+सूर्य+बुध = पिता के लिए अशुभ। विद्या विभाग में नौकरी।

 

19. गुरू+चन्द्र+शुक्र = दो विवाह। रोग। बदनाम प्रेमी। कभी धनी , कभी गरीब।

 

20. गुरू+चन्द्र+मंगल = हर प्रकार से उत्तम। धनी। उच्च पद। अधिकारी। गृहस्थ सुख।

 

21. गुरू+चन्द्र+बुध = धनी। अध्यापक। दलाल। पिता के लिये अशुभ। माता बीमार रहे।

 

22. गुरू+शुक्र+मंगल = संतान की और से परेशानी। प्रेम संबंधों से दुःख। गृहस्थ में असुख।

 

23. गुरू+शुक्र+बुध = कुटुंब अथवा गृहस्थ सुख बुरा। पिता के लिये अशुभ। व्यापारी।

 

24. गुरू+शुक्र+शनि = फसादी। पिता-पुत्र में तकरार।

 

25. गुरू+मंगल+बुध = संतान कमजोर। बैंक एजेंट। धनी। वकील।

 

26. चन्द्र+शुक्र+बुध+शनि = माँ- पत्नी में अंतर ना समझे।

 

27. चन्द्र+शुक्र+बुध+सूर्य = आज्ञाकारी। अच्छे काम करे। माँ -बाप के लिये शुभ। भला आदमी। सरकारी नौकरी विलम्ब से मिले।

 
ज्योतिर्विद् अभय पाण्डेय
भगवती ज्योतिष परामर्श केंद्र
वाराणसी
9450537461
Email Abhayskpandey@gmail. com

No comments:

Post a Comment