Thursday, October 12, 2017

अपने अहम पर अड़े अफसर रुक गया कोटे का चयन

शासन व प्रशासन की मिलीभगत से कोटे का नही हो चयन पक्ष व विपक्ष अपने _ अपने अहम पर अड़े  गोंडा जिलाध्यक्ष पवन कुमार द्विवेदी  आल मीडिया जर्नलिस्ट बेलफेयर एसोसिएशन गोंडा शासन के आदेशानुसार जिले मे 63 सम्बद्ध दुकानो का चयन खुली बैठक के माध्यम से व नोडल अधिकारी की उपस्थिति मे कोटे की दुकानो का चयन होना था इसी क्रम मे इटियाथोक मे पाॅच दुकानो का चयन होना था जिसमे गोशेनदर पुर  व पूरे महा मे सत्ता पक्ष के इशारो पर प्रशासन दबाव मे आकर नियम कानून को ताक पर रख दिया जिससे कोटे का चयन नही हो पाया पूरे दिन विकास खंड पर दोनो पक्ष अपनी बातो पर डटे रहे वही प्रशासन व बीडीओ पूरी तरह दबाव मे दिखे ,इस बात का अंदाजा इसी लगाया जा सकता कि बीडीओ के कार्यालय मे ही दोनो पक्षो के लोग सरे आम एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगा रहे थे वही बीडियो व अन्य स्टाफ किसी निर्णय पर नही पहुंच सके है वही एक पक्ष का कहना था कि  पंचायत भवन मे हो वही दूसरे पक्ष का कहना था कि प्राथमिक विद्यालय मे होना चाहिए इसी बात को लेकर पूरे दिन गहमागहमी रही ,पूरे दिन किसी बात पर सहमति नही बन पाई वही यही हाल पूरे महा के कोटे की दुकान के चयन को लेकर भी दोनो पक्षो मे स्कूल व पंचायत भवन मे बैठक कराने को लेकर पूरे दिन विवाद चलता रहा वही अधिकारी व कर्मचारी मौके की नजाकत को देखते हुए वहाॅ से दुबक लिए है वही जब इस बारे मे जनता की राय जानने का प्रयास किया गया तो उन लोगो ने बताया कि जिन लोगो को जनता पसंद नही कर रही है वे लोग ही कोटे का चयन नही होने देना चाहता है ।इस पूरे प्रकरण को देखकर यही लगता है कि कोटे की दुकान के लिए जनता की भावनाओ को ध्यान न देकर अपने अपने लोगो को लाभ दिलाने के लिए जोर आजमाईस कर रहे है क्योकि कोटे की दुकान से वर्तमान मे काफी लाभ दिख रहा है ।शासन को भविष्य को देखते हुए ऐसी योजनाओ पर पुनर्विचार करना चाहिए क्योंकि ऐसी योजनाए जहाॅ सरकार गरीबो को लाभ दिलाने के लिए बनाती है लेकिन वर्तमान मे उन योजनाओ से लाभ लेने का प्रयास कर रहे है ।

No comments:

Post a Comment