Monday, November 27, 2017

यूपी निकाय चुनाव के दूसरे चरण में 52% मतदान

मतदाता सूची से नाम नदारद रहने के नाम पर विरोध और हिंसा की छिटपुट घटनाओं के बीच उत्तर प्रदेश में नगर निकाय चुनाव के दूसरे चरण में आज 25 जिलों में करीब 52 फीसदी मतदान हुआ जो वर्ष 2012 की तुलना में करीब आठ प्रतिशत अधिक है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी, केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के संसदीय क्षेत्र लखनऊ तथा समाजवादी पार्टी (सपा) संस्थापक मुलायम सिंह यादव के पैतृक शहर इटावा समेत अन्य इलाकों में कड़ी सुरक्षा के बीच लोगों ने कतारबद्ध होकर अपने मताधिकार का प्रयोग किया।
इस दौरान कई मतदान केन्द्रों पर मतदाता सूची से नाम गायब रहने और फर्जी वोटिंग के नाम पर विरोध के साथ सुरक्षा बलों के साथ धक्का मुक्की हुयी जबकि इक्का दुक्का क्षेत्रों में इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के खराब होने के कारण मतदान कुछ समय के लिये प्रभावित हुआ। पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद कलराज मिश्र और पुलिस महानिदेशक सुलखान सिंह मतदाता सूची में गड़बड़ी के कारण मताधिकार का प्रयोग किये नहीं कर सके।
पूर्व केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्र सहित बड़ी संख्या में लोगों का नाम इस बार निकाय चुनाव में लखनऊ की वोटर लिस्ट से गायब रहा। वह दिल्ली से वोट डालने के लिए आये थे। लिस्ट में नाम नहीं मिलने के बाद वह बिना वोट डाले ही एक कार्यक्रम में शामिल होने रायबरेली चले गए। यही हाल नाका हिंडोला की लिस्ट में भी सामने आया। यहां तीन बार लखनऊ के मेयर रहे डॉ. दाऊजी गुप्ता के परिवार के सदस्यों का नाम ही इस बार लिस्ट से गायब हो गया।

No comments:

Post a Comment