Tuesday, November 7, 2017

एक्सप्रेसवे पर सड़क दुर्घटना से 64 हादसे 65 मौते 350 घायल

कन्नौज ब्यूरो पवन कुशवाहा के साथ आलोक प्रजापति
कन्नौज : सुगम व बेहतर सफर के लिए निर्मित आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर धीरे-धीरे मौत बांटने की कालिख लगती जा रही है। महज एक वर्ष में जिले में 64 हादसों में 65 की मौत व 350 से अधिक लोग गंभीर रूप से जख्मी हो चुके हैं। मामूली घायलों की संख्या भी सैकड़ों में है। हादसों के पीछे तेज रफ्तार, आवारा जानवर व नियमों की कम जानकारी व अनदेखी बड़ी वजह हैं। सौरिख, तालग्राम, ठठिया व तिर्वा के कई इलाके ब्लैक स्पॉट के तौर पर सामने आए हैं।
अधिकतम 100 की रखें रफ्तार
सुरक्षित चलने के लिए यातायात नियमों के तहत एक्सप्रेस-वे के पुलों, सर्विस रोड और चढ़ने-उतरने के दौरान वाहनों की स्पीड का मानक 40 किमी. प्रतिघंटा रखा गया है जबकि मुख्य सड़क पर अधिकतम 100 किलोमीटर प्रतिघंटा रफ्तार तक में वाहन चलाने के संकेतक भी लगे हैं। मोड़ पर 60 से 70 किलोमीटर प्रतिघंटा स्पीड होनी चाहिए। वाहन चलाते समय मोबाइल पर बात पूर्ण रूप से प्रतिबंधित है। इसके विपरीत नियमों की अनदेखी कर चालक 160 से 180 किमी. प्रतिघंटा की स्पीड रखते हैं। इसी वजह से अक्सर थोड़ी सी चूक पर कार के टायर फटने, डिवाइडर से टकराकर वाहन पलटने की घटनाएं होती हैं।
इनका रखें ख्याल
- ग्रामीण हाईवे पर जानवर न चढ़ने दें, लोग अपनी साइड से गाड़ी ऊपर ले जाएं।
- अंडरपास से एक्सप्रेस-वे पार करें, साइकिल सवार व पैदल सर्विस रोड से गुजरें।
- ट्रैक्टर और बाइक चलाना पूर्ण रूप से प्रतिबंधित होना चाहिए।
इन नियमों का पालन जरूरी
- एक्सप्रेस-वे पर चढ़ने से पहले वाहन के पहियों में हवा का मानक देख लें।
- कमजोर टायर वाले वाहनों को लेकर एक्सप्रेस-वे पर सफर न करें।
- सीट बेल्ट जरूर लगाएं, समय पर हॉर्न व डिपर का इस्तेमाल।
- नशे की हालत में न हों, जरूरत पर पीली पट्टी के बाहर वाहन पार्क करें।
- रात में वाहन खड़ा करने पर पार्किंग इंडीकेटर का इस्तेमाल जरूरी।
....
''एक्सप्रेस-वे निर्माण मानक के हिसाब से किया गया है। सुरक्षित सफर के लिए बेहतरीन सड़क बनी है। नौसिखिया चालक व नियमों की अनदेखी करने वाले तेज रफ्तार में सब कुछ भूल जाते हैं। इसीलिए 95 फीसद हादसे डिवाइडर से टकराने के बाद हो रहे हैं। लोगों को सुरक्षित सफर के लिए फर्राटा भरने से बचना चाहिए। आवारा व पालतू जानवरों को एक्सप्रेस-वे पर न लाने के लिए ग्रामीणों को जागरूक किया गया है।-अर¨वद तिवारी, प्रशासनिक अधिकारी, कार्यदायी संस्था एक्सप्रेस-वे कन्नौज क्षेत्र।

No comments:

Post a Comment