Sunday, November 19, 2017

हाईकोर्ट के आदेश से तालाब में बने मकान हुए खाली उजड़ी ग्रहस्थी

कन्नौज ब्यूरो पवन कुशवाहा के साथ आलोक प्रजापति
कन्नौज । लाल सहाय नगरिया गांव में तालाब की जमीन पर बने आवासों को खाली कराए जाने की घटना को लेकर ग्रामीणों मंे हड़कम्प मच गया है। यहां पहुंचे तहसीलदार ने हाईकोर्ट के आदेश पर यह कार्रवाई की है।
विकास खंड हसेरन की ग्राम सभा चपुन्ना के मजरे लालसहाय नगरिया में तालाब की जमीन पर ग्रामीणों ने आवास बना लिए थे। इसके साथ ही सरकार से आवंटित की गई कालोनी भी इसी जमीन पर बनाई गई थी। वर्ष 2008 में शिकायत पर तहसीलदार न्यायालय से 122 बी के तहत बेदखली के आदेश जारी किए गये थे। लेकिन इस आदेश पर कार्रवाई न होने पर शिकायतकर्ता ने मामले को उच्च न्यायालय में दायर किया था। उच्च न्यायालय ने तालाब की जमीन पर बने आवासों पर गम्भीरता लेते हुए तत्काल कार्रवाई करने के आदेश दिए। इसी के चलते शुक्रवार को तहसीलदार महेन्द्र कुमार सिंह , नायब तहसीलदार, रामकरन वर्मा, कानूनगो नूर मोहम्मद, लेखपाल आलोक तिवारी के साथ गांव पहुंचे। यहां तालाब की जमीन पर बने आधा दर्जन मकानों की गृहस्थी खाली करवा दी। इसके साथ ही इन आवासों को सील करके ग्राम विकास अधिकारी के हवाले कर दिया।

No comments:

Post a Comment