Thursday, November 9, 2017

जिला अधिकारी ने बैठक कर दिए निर्देश

जिला अधिकारी महोदय ने कलेक्ट्रेट सभागार में मास्टर टेªनरों की मीटिंग में अधिकारियों को चुनाव के सम्बन्ध में दिये आवश्यक दिशा निर्देश।
कन्नौज ब्यूरो पवन कुशवाहा के साथ आलोक प्रजापति 
कन्नौज सभी मास्टर ट्रेनर नगरीय निकाय समान्य निर्वाचन 2017 की कार्यवाही के संबंध में शंका का समाधान कर लें, तथा प्रशिक्षण हेतु पूर्ण जानकारी करके पीठासीन एवं मतदान अधिकारियों को प्रशिक्षित करें। फर्जी वोट डालने वालों के खिलाफ विधिक कार्यवाही सुनिश्चित की जाये।

उक्त निर्देश आज जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी श्री जगदीश प्रसाद ने आज कलेक्ट्रेट सभागार में मास्टर ट्रेनरों को प्रशिक्षण के दौरान मास्टर ट्रेनरों हेतु लगाये गये संबंधित  अधिकारियों को दिये। उन्होनें कहा कि यदि कोई पोलिंग अभिकर्ता मतदान प्रक्रिया की गोपनीयता या कानून व्यवस्था भंग करता है तो पीठासीन अधिकारी उसकी शिकायत सुरक्षा गार्ड में लगे पुलिस विभाग के अधिकारियों को दे सकते है। निर्वाचन निष्पक्ष, एंव कुशलतापूर्वक सम्पन्न कराये जाये। एक भी फर्जी वोट न पडने पाये अगर कोई भी मतदाता फर्जी वोट डालते पाया गया तो उसके खिलाफ कडी कार्यवाही करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिये। मतदान निर्धारित समय 07ः30 बजे से प्रारम्भ होकर साय 05ः00 बजे समाप्त होगा।
प्रशिक्षण के दौरान बताया गया कि प्रशिक्षण कक्ष मंे 50-50 लोग निर्वाचन से संबंधित अधिकारी मौजूद रहेगंे। निष्पक्ष निर्वाचन हेतु आयोग के नियमों का अनुपालन किया जाये। सभी बूथों पर एक पीठासीन अधिकारी तथा तीन मतदान अधिकारियों की नियुक्ति की गई, जिसमें से अध्यक्ष एंव सदस्य पद हेतु अलग-अलग दो मतपेटिकायें मतदेय स्थल (बूथ) पर भेजी जायेगी। इस दौरान यह भी बताया गया कि हो सकता है कि जैसे पूर्व में आर0ओ0 एं0 ए0आर0ओ0 की प्रशिक्षण के उपरान्त परीक्षा हुई थी। उसी क्रम में मास्टर ट्रेनरों की भी परीक्षा हो सकती है। इसलिये सभी मास्टर ट्रेनर प्रशिक्षण एंव निर्वाचन सम्पन्न कराने के संबंध में पूर्ण जानकारी सुनिश्चित कर ले। प्रत्येक पोलिंग बूथ पर प्रत्येक प्रत्याशियों के अभिकर्ता होगें। मतपेटिका पर पीठासीन द्वारा की जाने वाली कार्यवाही के संबंध में भी बताया गया। प्रथम, द्वितीय, तृतीय मतदान अधिकारियों द्वारा निर्वाचन मंे की जाने वाली कार्यवाही के संबंध में आवश्यक प्रशिक्षण दिया गया तथा यह भी बताया गया कि मतपत्र गुलाबी हरे और सफेद रंग के होगे। अमिट स्याही का कार्य द्वितीय मतदान अधिकारी द्वारा किया जायेगा। इस कार्य को कुशलतापूर्वक सम्पन्न कराने हेतु राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार महिला कर्मचारियों को लगाया गया है। प्रत्येक पोलिंग केन्द्र पर एक महिला की डियुटी लगाई गई। तृतीय मतदान अधिकारी मतपेटिका का प्रभारी होता है इस दौरान यह भी बताया गया कि पीठासीन अधिकारी पोलिंग पार्टीयों के रवाना होने से पूर्व निर्वाचन से संबंधित प्राप्त सामग्री का निरीक्षण सूची के अनुसार अवश्य कर लें। जिससे निर्वाचन सम्पन्न कराते समय कोई भी समस्या उत्पन्न न हो सके, साथ ही अपने-अपने सेक्टर मजिस्ट्रेटों को भी अवगत कराना सुनिश्ति करें। पूर्व प्रधानाचार्य श्री एन0सी0टण्डन द्वारा बताया गया कि कोई भी पोलिंग पार्टी पोलिंग सेन्टर के क्षेत्र में किसी का भी आतिथ्य स्वीकार न करेगा। उन्होनें यह भी बताया कि मतदान स्थल के अन्दर की फोटोग्राफी किसी भी दशा में नही कराई जायेगी, तथा मतदेय बूथ में वही व्यक्ति प्रवेश कर सकता है जिसे राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा अधिकृत किया हो। सभी पीठासीन अधिकारी अपनी डायरी भी पूर्णतः भरेगें, तथा मतदान प्रारम्भ होनें के प्रत्येक दो-दो घण्टे में पडे़ वोटों की संख्या का भी विवरण अंकन करेगें। यदि मतदान कक्ष के अन्दर कोई घटना होती है और मतदान को प्रभावित करती है तो उसका उल्लेख भी अपनी डायरी में करेगा। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी श्री अवधेश बहादुर सिह, मुख्य चिकित्सा अधिकारी श्री के0 स्वरूप, जिला विकास अधिकारी, सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी सहित विभिन्न विभागों के निर्वाचन में लगाये गये संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment