Sunday, November 5, 2017

किशन गढ़ में निकली भब्य शोभायात्रा

शोभायात्रा में उमडे हजारों श्रद्धालु।

मदनगंज-किशनगढ़। हाथ में गुलाब लिए सजी धजीे महिलाएं, वातावरण में गूंजती जैन भजनों की मधुर स्वर लहरिया, मन में श्रद्धा, चेहरे पर मुस्कान, मुख से जिनेन्द्र देव, जैन धर्म, आचार्य विद्यासागर महाराज व मुनि सुधासागर महाराज ससंघ के जयकारे लगाते हजारों श्रद्धालु रविवार को आर.के. कम्यूनिटी सेंटर प्रारम्भ हुई शोभायात्रा अध्यात्म से सराबोर नजर आई। अवसर था सकल दिगम्बर जैन समाज, श्री दिगम्बर जैन धर्म प्रभावना समिति के तत्वावधान व प्रात: मुनि सुधासागर, मुनि महासागर, मुनि निष्कंपसागर, क्षुल्लक गंभीरसागर, क्षुल्लक धैर्य सागर महाराज के सान्निध्य में आयोजित दस दिवसीय श्री अर्हचक्र चौबीस कल्पदु्रम महामण्डल विधान एवं विश्व शांति महायज्ञ महोत्सव के समापन्न पर आयोजित किशनगढ में पहली बार ऐतिहासिक भव्य 24 श्रीजी के रथों की भव्य शोभायात्रा का। रविवार को प्रात: शाही लवाजमें के साथ बैंड की मधुर स्वर लहरियो के साथ बग्घियां एवं हजारों श्रद्धालुओं के साथ मनमोहक 24 स्वर्ण व रजत रथों में श्रीजी की भव्य शोभायात्रा मुनिश्री ससंघ के सान्निध्य में आर.के. कम्यूनिटी सेंटर से प्रारम्भ हुई। श्री दिगम्बर जैन धर्म प्रभावना समिति के प्रचार मंत्री संजय जैन के अनुसार शोभायात्रा पुरानी मिल चौराहा, सुमेर टॉकिज, सिटी रोड आदिनाथ मंदिर, अग्रसेन भवन, मुनिसुव्रतनाथ मंदिर, मैन चौराहा होते हुए कम्यूनिटी सेंटर पंहुची। शोभायात्रा में महिलाएं हाथो में फूल के साथ केसरिया वस्त्रों में मंगल गीत एवं स्वेत वस्त्रों में पुरूष श्रीजी के रथ को खिंचते व मधुर संगीत पर नाचते गाते हुए चल रहे थे। रास्ते में जगह जगह श्रद्धालुओं ने श्रीजी की आरती करते हुए शोभायात्रा का स्वागत किया। शोभायात्रा में सर्वप्रथम बैंड, घोडे, तपस्वी रथ, आचार्य विधासागर महाराज, जीनवाणी मां रथ, प्रभावना टीम, ढोल, ध्वज के साथ इन्द्र-इन्द्राणि व पाठ शाला के बच्चे, बग्घि में चक्रवर्ती, सौधर्मइन्द्र, कुबेर, महा यज्ञनायक, बाहुबली, ध्वजारोहणकर्त्ता, मंगल कलश स्थापनाकर्ता परिवार के बाद 24 श्रीजी के रथ व श्रद्धालु चल रहे थे। शोभायात्रा के पश्चात कम्यूनिटी सेंटर में धर्मसभा का आयोजन किया गया। जिसमें मुनि सुधासागर महाराज ने जैन धर्म, विधान पूजन की महिमा का गुणगान करते हुए मंगल आशीर्वाद दिया। कार्यक्रम में श्रीजी का अभिषेक किया गया। जयकारों से माहौल भक्तिमय हो गया। सायं आचार्य भक्ति, जिज्ञासा समाधान, आरती का आयोजन किया गया। सत्येन्द्र शर्मा एण्ड पार्टी द्वारा आरती का आयोजन किया गया। इस अवसर पर अजमेर, आवां, बिजोलिया, ब्यावर, भीलवाडा, नसीराबाद, आसू हाथीवाटा, भिंडर, केकडी, दूदू, सवाई माधोपुर, कुचामन सीटी के साथ देशभर के अनेक शहरों से हजारों श्रावक-श्राविकाएं मौजूद थे। शोभायात्रा में आदिनाथ नवयुवक मण्डल, पार्श्वनाथ नवयुवक मण्डल, पुलक मंच, मुनिसुव्रतनाथ नवयुवक मण्डल, ज्ञानोदय नवयुवक मण्डल, इन्द्रा नगर युवा मण्डल के अलावा अनेक नवयुवक व महिला मण्डल के साथ विभिन्न सामाजिक व धार्मिक संगठनों ने सहयोग किया।

यह बने सारथी

मुनिश्री सुधासागर महाराज ससंघ के सान्निध्य में आयोजित श्रीजी की शोभायात्रा में भगवान आदिनाथ के सारथी बनने का सौभाग्य सुशीलकुमार धर्मचंद काला, भगवान अजीतनाथ के महावीर प्रसाद, सुभाषचंद गंगवाल, भगवान संभवनाथ के नेमीचंद, सुधीर कुमार भौंच, अभिनन्दन भगवान के तारााचंद, प्रवीण, संजय, राजीव गंगवाल, सुमतिनाथ भगवान के निहालचंद, राकेशमोहन पहाडिया, पदमप्रभु भगवान के नरेशकुमार, नीतिश पहाडिया, सुपार्श्वनाथ भगवान के प्रेमचंद, राजीव सेठी, चन्द्रप्रभु भगवान के चांदमल, प्रकाशचंद गंगवाल, पुष्पदंत भगवान के नीरजकुमार, धीरजकुमार अजमेरा, शीलतनाथ भगवान के पवनकुमार पाटोदी, श्रेयांसनाथ भगवान के मोतीलाल, निहालचंद गंगवाल, वासुपूज्य भगवान के उम्मेदमल, सुरेशकुमार छाबडा, विमलनाथ भगवान के महावीरप्रसाद, अमित बडजात्या, अनन्तनाथ भगवान के संपत कुमार प्रदीपकुमार दगडा, धर्मनाथ भगवान के मूलचंद, अशोक कुमार, अतुल लुहाडिया, शांतिनाथ भगवान के हरकचंद, सज्जन कुमार कटारिया, कुंथुनाथ भगवान के एमके जैन, अजय गंगवाल, अरनाथ भगवान के नौरतमल महेन्द्र, ज्ञानचंद पाटनी, मल्लीनाथ भगवान के विमलकुमार, रौनक बाकलीवाल, मुनिसुव्रतनाथ भगवान के विनोदकुमार उमेश जैन, नमीनाथ भगवान के प्रेमचंद, प्रकाशचंद गंगवाल, नेमीनाथ भगवान के दिलीपकुमार, प्रेमचंद, निरजंन बैद, पार्श्वनाथ भगवान के दीपककुमार वैभव रारा व भगवान महावीर स्वामी के कंवरलाल, महावीर प्रसाद, अशोक कुमार, सुरेश कुमार, विमल कुमार पाटनी आर के मार्बल परिवार के सदस्य बने।

विश्व शांति महायज्ञ

मुनि सुधासागर महाराज ससंघ सान्निध्य में रविवार को प्रात: श्रीजी का अभिषेक व शांतिधारा के पश्चात श्री अर्हचक्र चौबीस कल्पदु्रम महामण्डल विधान करते हुए विश्व शांति महायज्ञ का आयोजन किया गया। जिसमें प्रतिष्ठाचार्य प्रदीप के निर्देशन एवं नीलेश जैन एण्ड पार्टी के मधुर संगीत पर चक्रवर्ती कंवरलाल, महावीर प्रसाद, अशोककुमार, सुशीला, सुरेशकुमार, शांता, विमलकुमार, विनीत, विकास, विनय, विवेक पाटनी, सौधर्मइन्द्र दीपक, वैभव रारा, कुबेर दिलीप, प्रेमचंद, निरजंन बैद, महायज्ञनायक प्रेमचंद, प्रकाशचंद हुकमचंद गंगवाल, बाहुबली विनोद, उमेश जैन, ध्वजारोहणकर्त्ता डा. किरणमाला, डा. विनोद जैन, अखण्डदीप प्रज्जवलितकर्त्ता उम्मेदमल, विमल, निर्मल, सुरेश छाबडा, मंगल कलश स्थापना कर्त्ता ताराचंद, प्रवीण, संजय, राजीव गंगवाल के अलावा नरेन्द्र कासलीवाल, कैलाश, मनीष पहाडिया, नौरतमल, महेन्द्र पाटनी, एमके जैन, अजय गंगवाल, सुमेरमल, सुनील छाबडा, भागचंद, प्रदीप चौधरी, घीसालाल, निखिल बडजात्या, महावीर प्रसाद, सतीश गंगवाल, प्रकाशचंद, सुभाष चौधरी, घीसालाल, पदमचंद अजमेरा, ज्ञानचंद, धर्मचंद दगडा, पारसमल, राकेश पहाडिया, मोतीलाल, निहालचंद गंगवाल, सुभाषचंद, अजित दोसी, गीगराज, ओमप्रकाश ठौल्या, मूलचंद, अशोक लुहाडिया, संपत, राकेश दगडा, महावीर प्रसाद, अमित बडजात्या, अशोक नितेश पाटनी, निर्मल, विजय छाबडा, कजोडमल, राजेन्द्र गंगवाल सहित अनेक इन्द्रों- इन्द्राणियों ने भक्ति भाव से महायज्ञ किया

No comments:

Post a Comment