Tuesday, November 28, 2017

पुरुष नसबन्दी के प्रति जागरूक करने के लिए सारथी हुआ रवाना

शाहजहाँपुर, 27 नवम्बर । जिलाधिकारी नरेन्द्र कुमार सिंह ने मिशन परिवार विकास के तहत पुरूष नसबन्दी पखवाड़े को सफल बनाने हेतु एवं जन जागरूकता लाने के लिये सोमवार को कैम्प कार्यालय पर फीता काटकर ‘‘सारथी वाहन’’ का उद्घाटन किया एवं हरी झंडी दिखाकर ‘‘सारथी वाहन’’ रवाना किया।इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि मिशन परिवार विकास पुरूष नसबन्दी पखवाड़ा में ‘‘सारथी वाहन’’ के द्वारा जनजागरूकता लाने हेतु दिनांक 28.11.2017 को जलालाबाद, 29.11.2017 को तिलहर व पुवायां, 30.11.2017 को बंडा, 01.12.2017 को निगोही, 02.12.2017 को मिर्जापुर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रो व 04.12.2017 को जिला पुरूष चिकित्सालय में शिवरों का आयोजन किया जायेगा। पुरूषों के लिए परिवार नियोजन का स्थायी उपाय पुरूष नसबन्दी है। यह बिना चीरा, टॉका का 10 मिनट में होने वाला सफल आपरेशन है। जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिये कि अपने अधिनस्थ आशा, ए0एन0ए0एम0 एवं ऑगनबाड़ी से एक पुरूष नसबन्दी केस अवश्य प्रेषित करायें।
इस अवसर पर उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिये कि ‘‘सारथी वाहन’’ में सम्बन्धित विकास खण्डों की ए0एन0ए0एम0 की भी ड्यूटी लगाई जाये। प्रत्येक ब्लॉक जाकर गाँव-गाँव में पुरूष नसबन्दी के प्रति जागरूक करें। इसके साथ ही महिलाओं को परिवार नियोजन की जानकारी में ‘‘ अन्तरा ’’ त्रैमासिक गर्भ निरोधक इंजेक्शन व ‘‘छाया’’ साप्ताहिक गर्भ निरोधक टैबलेट की जानकारी देकर समझायें कि यह सुविधा सरकारी अस्पतालों में निःशुल्क उपलब्ध है, स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए पूर्ण रूप से सुरक्षित है।मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि लाभार्थी को आपरेशन के आधे घंटे बाद लाभार्थी घर जा सकता है। 2 दिनों के बाद से लाभार्थी सामान्य रूप से दैनिक कार्य कर सकता है और मर्दानगी पहले जैसे ही बनी रहती है। पुरूष नसबन्दी जिला अस्पताल में प्रतिदिन निःशुल्क उपलब्ध है। इस आपरेशन कराने वाले लाभार्थी को 3 हजार रुपये भी दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि जिम्मेदार पुरूष की यही पहचान परिवार नियोजन में जो दे योगदान।

अमित कुमार शर्मा 

No comments:

Post a Comment