Saturday, December 2, 2017

गोंडा जनपद में आपसी कलह बनी भाजपा की करारी हार का कारण-पवन कुमार द्धिवेदी

गोंडा पवन कुमार द्विवेदी /जिला अध्यक्ष आलमीडिया जर्नलिस्ट बेलफेयर एसोसिएशन।गोंडा जनपद के तीन नगर पालिका परिषद गोंडा से सपा समर्थित उजमा राशिद ,कर्नलगंज से सपा समर्थित राजिया खातून ,नबावगंज गंज से निर्दलीय प्रत्याशी सतेंद्र सिंह व चार नगर पंचायत खरगूपुर से सपा समर्थित  लाल मोहम्मद ,कटराबाजार से सपा समर्थित शाहजहाँ ,परसपुर से भाजपा समर्थित विमला सिंह ,मनकापुर भाजपा समर्थित प्रदीप गुप्ता जीतने मे सफल रहे ।गोंडा जनपद मे चार सपा प्रत्याशी व एक निर्दलीय प्रत्याशी सांसद बृजभूषण शरण सिंह की समर्थित के जीतने का मतलब आम जनमानस साफ लगा रहा है कि भाजपा की अनतरकलह खुल कर सामने आ गई है वही विशेषकर खरगूपुर सीट पर भाजपा ने जिसको टिकट दिया उसे अपनी जीत पर खुद भरोसा नही था वहाँ से पूर्व चेयरमैन राजीव रस्तोगी टिकट के प्रबल दावेदार थे उनको टिकट न देकर भाजपा नेतृत्व ने खुद अपनी हार पक्की कर ली क्योंकि वे महज एक सौ पैसठ वोटो से हारे वही नगर पालिका परिषद गोंडा की सीट पर सीएम योगी के प्रचार करने के बाद भी भाजपा की अनतरकलह के चलते भाजपा को सीट गंवानी पड़ी ।गोंडा मे भाजपा मे एक दूसरे से आगे निकलने की होड मे पार्टी की यह दुर्गति हुई है ।वही दो माननीय अपने अपने लोगो को टिकट दिलवाने के लिए जोर आजमाईस की जब नही दिलवा पाए तो विरोध किया जिसका इजहार खुले मंच एक माननीय ने किया भी ।भाजपा नेतृत्व ने यदि पार्टी का संगठनात्मक ढांचे को मजबूत नही किया व कार्य करताओ की भावनाओ को नही समझा तो आने वाले लोकसभा चुनाव मे इसके परिणाम गंभीर हो सकते है ।एक तरफ सपा कार्य करताओ मे खुशी की लहर है वही भाजपा मे मायूसी है वही एक दूसरे के ऊपर हार का ठीकरा फोड़ रहे है वही खरगूपुर मे पूर्व विधायक नन्दिता शुक्ला व  उनके पुत्र राहुल शुक्ल खरगूपुर पहुंच कर लाल मोहम्मद की जीत की बधाई देते हुए कहा कि जनता काम करने वालो को  पसंद करती है न कि वादे करने  वालो को

No comments:

Post a Comment