Monday, December 4, 2017

जन प्रतिनिधियों की राजनीति का शिकार इटियाथोक बाजार-पवन कुमार

गोंडा पवन कुमार द्विवेदी               गोंडा बलरामपुर मार्ग पर स्थित इटियाथोक बाजार जो नगर पंचायत बनने की सारी औपचारिकताए पूरी करने के बाद भी जनप्रतिनिधियो की उपेक्षा का शिकार है ।यहाॅ घर घर मे नेता बने घूम रहे है लेकिन इन मुद्दो पर ध्यान न देकर नाली खडंजा , मारपीट व जर जमीन क के मामले को प्राथमिकता देते है ।यह बाजार जिस तरह से जनसंख्या व अन्य जैसे स्कूल ,थाना, कालेज ,बैंक ,पोस्ट ऑफिस जैसी लगभग सभी सुविधाए मौजूद है ।लेकिन गंदगी मे अव्वल नम्बर पर है ।वही सड़के ,नाली व पानी निकासी के अभाव मे नर्क जैसा प्रतीत होता है वही यहाॅ के रहने वाले लोग इन सब समस्याओ से ग्रस्त है ।जनप्रतिनिधि बदलते है लेकिन व्यवस्था नही बदलती है ।यहाॅ के निवासियो का कहना है कि यह ग्राम पंचायत से नगर पंचायत बनने से और अन्य सुविधाए भी मिलेगी ,जिससे यहाॅ के रहने वाले लोगो का जीवन स्तर मे सुधार आएगा ।इटियाथोक के नाम से ही विकास खंड का नाम भी होते हुए विकास से कोसो दूर है ।वही इटियाथोक के नाम से रेलवे स्टेशन भी है लेकिन वह भी उपेक्षा का शिकार है जहाॅ पर महज पैसेंजर ट्रेन ही रूकती है ,जहाॅ पर मेल ट्रेन रुकवाने के लिए आम जनमानस के द्वारा प्रयास किया गया लेकिन परिणाम कुछ नही निकला ।जनप्रतिनिधियो की उपेक्षा से ट्रेन रुकवाने की मंशा विफल हो गयी है ।यह बाजार जनप्रतिनिधियो की उपेक्षा का शिकार क्यो है इस बात का कारण समझ मे नही आ रहा है ।वही प्रधान ,ब्लाक प्रमुख ,व खंड विकास अधिकारी के होते हुए भी इस बाजार का कायाकल्प नही हो रहा है ।

No comments:

Post a Comment