Wednesday, December 20, 2017

कड़ाके की शर्दी में फुटपाथ पर गरीबों का रैनबसेरा

कन्नौज ब्यूरो पवन कुशवाहा के साथ आलोक प्रजापति
छिबरामऊ (कन्नौज) ।गरीबों को ठंड से बचाने के लिए नगर पालिका ने रैन बसेरा बनाया है। रजाई-गद्दा भी डलवा दिए लेकिन जानकारी के अभाव में गरीबों का डेरा फुटपाथ पर रहता है। रात के लिए कर्मी तो तैनात हैं पर रैन बसेरे में लोग नहीं पहुंचते हैं। कुछ दिन से अचानक शीतलहर चलने के कारण गरीब बेहाल हैं। सड़क व फुटपाथ पर गुजारा करने वालों के लिए रात में मुश्किलें खड़ी हो गई हैं। इसके लिए नगर पालिकाओं व नगर पंचायत की देखरेख में रैन बसेरा बनाए गए हैं। हालांकि इंतजाम नाकाफी हैं। छिबरामऊ नगर पालिका की ओर से गरीबों को रात गुजारने के लिए अस्पताल रोड पर बरात घर के कक्ष में रैन बेसरा बनाया गया है। यहां पर रजाई गद्दे डलवा दिए गए हैं। शौचालय की सफाई करा दी गई है पर लोगों को इसकी जानकारी नहीं है। इससे तमाम गरीब रात को दुकानों व बाजारों में बनी पटियों पर लेट कर रात बिताने को मजबूर हैं। दिन के समय यह रैन बसेरा बंद रहता है। ईओ सुरेंद्र कुमार ने बताया कि शाम पांच बजे के बाद सुबह तक रैन बसेरा खुला रहता है। रात को भटकने वाले लोग यहां आकर रुक सकते हैं। सर्दी से बचाव के इंतजाम किए गए हैं। अलाव भी जलवा दिए हैं। दिन में ज्यादा जरूर भी नहीं पड़ती है। इसलिए बंद रखा गया है ताकि कोई शरारती तत्व अंदर नहीं पहुंच सके। कर्मचारी गया प्रसाद की नियमित ड्यूटी भी लगाई गई है। इसकी देखरेख भी कराई जाएगी।
सौरिख में नहीं हो सकी व्यवस्था
नगर पंचायत सौरिख में ठिठुरन के बाद भी अभी तक रैन बसेरा नहीं बना है। इससे बस स्टेशन पर रात में आने वाले लोग दुकान व टीनशेड के नीचे बैठकर रात बिताते हैं। पिछली बार टेंट लगाया गया था। इस बार वह भी नहीं लगवाया जा सका है।
तालग्राम में पुराने बस अड्डा पर शुरुआत
नगर पंचायत की ओर से गरीबों व जरूरतमंदों को सर्दी से बचने के लिए पूरा बस अड्डा स्थित नगर पंचायत बरात घर में रैन बसेरा शुरू किया गया है। ईओ शिव मोहन ¨सह ने यहां पर रजाई गद्दा की व्यवस्था कराई है। यहां पर दो-चार लोग प्रतिदिन रात के समय आ जाते हैं।

No comments:

Post a Comment