Tuesday, December 19, 2017

जीवन मे क्या होती है पुत्र की भूमिका जाने वरिष्ठ सम्पादक भोला नाथ मिश्रा की कलम से

सुप्रभात-सम्पादकीय- मनुष्य जीवन मे पुत्र की कामना हर व्यक्ति की पहली व अंतिम इच्छा होती है और जिन्हें भगवान पुत्र नहीं देती है वह अपने को दुर्भाग्यशाली मानते हैं।लोग पुत्र प्राप्ति के लिए के अपना सर्वस्व न्यौछावर कर देते हैं।पुत्र कुलवर्धक कुल उद्धारक तथा बुढ़ापे की लाठी माना जाता है।पुत्र के बिना मनुष्य को मरने के बाद मोक्ष नही मिलता है और वहीं पिण्ड दान देकर भटकती आत्मा को शांति प्रदान करने वाला होता हैं।यहीं कुछ कारण था कि पुत्र न होने से चक्रवर्ती सम्राट राजा दशरथ सदैव दुखी रहते थे और अंत में उन्हें पुत्रप्राप्ति के लिये पुत्रेष्टि महायज्ञ करवाकर पुत्र प्राप्त करना पड़ा।पुत्र के कुछ धर्म होते हैं और जो पुत्र अपने धर्म का पालन करता है वह भगवान राम तुल्य हो जाता है और जो नहीं पूरा करता है वह रावण तुल्य हो जाता है।पुत्र भी भी कई तरह के होते हैं और उनमें उस पुत्र को महान कहा जाता है जो पिता की आज्ञा को मानता है और पिता को परमेश्वर की तरह मानता है।सुबह उठकर माता पिता का आशीर्वाद लेकर अपनी दिनचर्या की शुरुआत करने वाले पुत्र का कोई बाल बाँका नही कर सकता है क्योंकि पिता को परमात्मा का लघु और प्रत्यक्ष स्वरूप माना जाता है।पिता को दुखी करके पुत्र कभी सुखी आनन्दित नही हो सकता है।पुत्र जब पथभ्रष्ट हो जाता है तो उसका पतन हो जाता है जैसा कि भगवान श्रीकृष्ण के पुत्रों का हुआ और भगवान श्रीकृष्ण को अपने सामने ही अपने पुत्रों को नष्ट करना पड़ा।माता पिता का सम्मान करने वाला पुत्र भक्त श्रवणकुमार बनकर अमर हो जाता है और आने वाली पीढ़ी उसका गुणानुवाद करती हैं।पुत्र माता पिता की कीर्ति को अमर करने वाला है और धूल में मिलाने वाला होता है।माता पिता के बताए मार्ग पर चलने वाले पुत्र को ही असली पुत्र माना जाता है और विपरीत मार्ग पर चलने वाले को ही हरामी की औलाद कहा जाता है।पुत्र माता पिता की जान होता है और जान लेने वाला भी होता है। पुत्रधर्म का निर्वहन करने वाले के जीवन में कोई तकलीफ नहीं होती है क्योंकि उसका रक्षक सीधे परमात्मा होता है। धन्यवाद।। भूलचूक गलती माफ।। सुप्रभात /वंदेमातरम् / गुडमार्निंग / नमस्कार /शुभकामनाएं।। ऊँ भूर्भुवः स्वः-------/ ऊँ नमः शिवाय।।।
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
          भोलानाथ मिश्र
वरिष्ठ पत्रकार/समाजसेवी
रामसनेहीघाट, बाराबंकी यूपी
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

No comments:

Post a Comment