Saturday, December 9, 2017

ओवरहेड टैंक की राइजिंग लाइन फटने से पानी के लिए त्राहि त्राहि

कन्नौज ब्यूरो पवन कुशवाहा के साथ आलोक प्रजापति
कन्नौज। जनपद की सीमा पर बसे विशुनगढ़ में समस्याओं का अम्बार है। यहां लगे ओवरहेड टैंक की मेन लाइन फट जाने से लोगों को पेयजल आपूर्ति नहीं मिल पा रही है। इससे यहां के बाशिंदे खासे परेशान हैं। मोहल्ले के लोग दूर-दराज लगे इंडिया मार्का हैंडपम्प से पानी लाने के लिए विवश हैं।
कभी राजाओं की शान रहा विशुनगढ़ स्टेट आज समस्याओं से जूझ रहा है। यहां के बाशिंदों की अर्से से चली आ रही मांग पर पूर्ववर्ती सरकार ने कस्बे को ओवरहेड टैंक की सौगात दी थी। इस ओवरटैंक से विशुनगढ़ समेत इससे लगे 11 मजरों ररूआ, किला नगरिया, पोहपपुर, नगला बरी, रैपुरा, मड़हा, कुडरा, नगला डाढ़ा, सरैया के ग्रामीणों को घर-घर पेयजल आपूर्ति होती है। ओवरहेेड टैंक से पेयजल आपूर्ति मिलने से लोगों के घरों में निजी हैंडपम्प धीरे-धीरे समाप्त हो गए। विगत एक सप्ताह पूर्व जीप अड्डा के पास ओवरहेड टैंक से आपूर्ति होने मिलने वाली मेन लाइन फट गई। इससे इसका पानी निकलने लगा। इसकी सूचना प्रधान कौशल्या देवी राजपूत ने मामले की जानकारी विभागीय अधिकारियों को दी। लेकिन एक सप्ताह बाद भी इसे सही नहीं किया गया। इससे यहां के निवासी पेयजल के भटक रहे हैं। घरों में लगे निजी हैंडपम्प भी लोगों ने समाप्त कर दिए हैं। इससे अब दूर दराज लगे इंडिया मार्का हैंडपम्पों का ही सहारा है। इनसे पानी भरने के लिए लोगों की लाइन लगने लगी हैं। विभाग की लापरवाही अब यहां के वाशिंदों पर भारी पड़ने लगी है। गांव के साबिर खां, राजू बाल्मीकि, ज्ञान यादव, शिवकुमार तिवारी, अखिलेश सविता, भानुप्रकाश दीक्षित, कल्लू दिवाकर, मोहम्मद अंसार, मेवाराम खटिक, राजेश बाल्मीकि ने पेयजल आपूर्ति को जल्द बहाल किए जाने की मांग की है।

No comments:

Post a Comment