Thursday, December 21, 2017

प्राथमिकता के आधार पर निस्तारित हो किसानों की समस्याएं-डीएम

गोंडा पवन कुमार द्विवेदी /जिला अध्यक्ष आलमीडिया जर्नलिस्ट बेलफेयर एसोसिएशन
किसानबन्धु की बैठक में डीएम व सीडीओ ने सुना किसानों का दर्दकिसानो की समस्याओ का समाधान हो पाएगाकिसानबन्धु की बैठक में डीएम जेबी सिंह ने किसानों की समस्याओं का संज्ञान लेते हुए जिम्मेदार अधिकारियों को फटकार लगाते हुए किसानों की समस्याओं को प्राथमिकता क आधार पर अतिशीघ्र निस्तारित करने के निर्देश दिए हैं।जिलाधिकारी ने बैठक में किसानों द्वारा बताई गई समस्याओं का संज्ञान लेते हुए स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि किसानों की समस्याओं के निस्तारण के प्रति केन्द्र व प्रदेश सरकार बहुत ही संजीदा है। इसलिए किसानों की समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर निपटाएं तथ यह सुनिश्चित करें कि किसानों को समस्याओं के निराकरण अथवा जानकारियो के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर न लगाने पड़ें तथा उन्हें उनकी उपज का समुचित मूल्य भी प्राप्त हो सके। बैठक में दलहनी फसलों की उपज बढ़ाने पर विशेष जोर देते हुए किसानों का आहवान किया गया कि वे सब दलहनी फसलों की उपज भी करें। किसानों द्वारा बैठक में छुट््टा जानवरों की समस्या से जिलाधिकारी को अवगत कराते हुए कहा गया कि छुट््टा जानवरों की वजह स उनकी फसल पूरी तरह चैपट हो जाती है और किसानों को उनकी लागत भी वापस नहीं मिल पा रही है। किसान गिरीश पाण्डेय द्वारा छुट््टा जानवरों  की समस्या से निजात पाने के लिए बाड़बन्दी कराने में किसानों को आर्थिक सहायता दिए जाने हेतु शासन को प्रस्ताव भेजने का अनुरोध किया गया। ज्यादातर किसानों द्वारा गन्ना पर्ची में निकालनेव मिल द्वारा अगेती प्रजाति को रिजेक्ट या जनरल वरायटी में शामिल कर दिए जाने की शिकायत की गई जिस पर डीएम ने डीसीओ से रिपोर्ट मांगी है। सिचंाई की समस्या के बारे में किसानों द्वारा नलकूपों के समय से ठीक न कराने तथा विद्युत समस्याएं भी बताई गईं जिस पर डीएम ने एक्सइएन नलकूप तथा एक्सईएन विद्युत को प्राप्त हुई समस्याओं को दो दिन के भीतर निस्तारित कर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं। गन्ना विक्रय से सम्बन्धित समस्याओं के निराकरण हेतु उपनिदेशक कृषि द्वारा बताया गया कि किसानबन्धु मोबाइल नम्बर 7275289841 पर काॅल करके शिकायत दर्ज करा सकते हैं। किसानों द्वारा डीएम से शिकायत की गई कि अनुदान सम्बन्धी या केसीसी की फाइलों में बैंकों द्वारा विभिन्न माध्यमों से सुविधाशुल्क की मांग की जाती है। इस समस्या का संज्ञान लेते हुए डीएम ने एलडीएम को निर्देश दिए हैं कि वे बैंकों में दलाली खत्म कराएं। करनैलगंज के किसान रामकुमार मौर्य द्वारा अवगत करया गया कि नगर पालिका करनैलगंज द्वारा उसके खेत में जबरन कस्बे का गन्दा पानी खोल दिया गया है जिससे उसके खेत जलमग्न हो गया है और खेती नहीं हो पा रही है। डीएम एसडीएम को स्वयं प्रकरण का निस्तारण करने के निर्देश दिए हैं। जिलाधिकारी ने नहरों के कटने से किसानो की फसलों के होने वाले नुकसान का संज्ञान लेते हुए डीएम ने नहर विभाग के अधिकारियों को चेतावनी दी है कि विभागीय लापरवाही के कारण यदि नहर कटी और किसानों की फसल बर्वाद हुई तो निश्चित ही कठोर कार्यवाही की जाएगी। इसी प्रकार किसानबन्धु की बैठक में जिले के कोने-कोने से आए किसानों द्वारा अपनी-अपनी समस्याएं बताई गईं जिनका निस्तारण एक सप्ताह के भीतर करके रिपोर्ट देने के निर्देश सभी सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों को दिए गए हैं।
बैठक में सीडीओ दिव्या मित्तल, एडीएम रत्नाकर मिश्र, सीआरओ ए0के0 शुक्ल, एसडीएम करनैलगंज नन्हे लाल, उपनिदेशक कृषि मुकुल तिवारी, जिला कृषि अधिकारी विनय सिंह, एक्सईएन विद्युत अशोक यादव सहित अन्य सभी सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण तथा कृषकबन्धु उपस्थित रहे।यहाॅ एक बात समझ से परे है कि किसानो की बात मीटिंग मे होती तो है लेकिन उस पर अमल नही होता है ।जहाॅ एक तरफ बहुत लंबे लंबे दावे प्रशासन की तरफ से किए गए लेकिन धान किसानो को बिचौलियो के हाथ ही बेचना पड़ा वही गन्ना बेचने मे किसानो को पसीने छूट रहे ।जहाॅ किसानो की पर्चिया नही आ रही है वही बिचौलियो की पर्चिया खूब आ रही है ।वही घटतौली से भी किसानो परेशान है बार बार शिकायत व आन्दोलन करने के बाद भी कोई कार्रवाई प्रशासन की तरफ से न करना प्रशासन की विश्वसनीयता पर प्रश्न चिन्ह लग रहा है। यदि सरकार व प्रशासन ईमानदारी से किसानो के लिए कुछ करना चाहते है तो गन्ना किसानो की समस्याए ,उपज का वाजिब मूल्य व शासन के द्वारा चलाई जा रही योजनाओ का लाभ मिले तभी कुछ किसानो का कोई भला हो सकता है ।

No comments:

Post a Comment