Tuesday, December 12, 2017

सूचना का अधिकार महज खानापूर्ति

कन्नौज ब्यूरो पवन कुशवाहा के साथ आलोक प्रजापति                                                                                                                   कन्नौज  ।  सदर विकास खण्ड कन्नौज के मोहल्ला अकबरपुर सराय घाघ के एक आर0टी0आई(एक्टीविस्ट) कार्यकर्ता आलोक कुमार द्वारा सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के अन्तर्गत कई माह पूर्व जनपद प्रशासन से सूचना मांगी गई थी। जिसकी की सही जानकारी जनपद प्रशासन द्वारा कार्यकर्ता को आज तक उपलब्ध नहीं करायी गयी है, और न ही सम्बन्धित आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई की गयी है। वहीं मामले को दबाने की कोशिश कर लटकाया जा रहा है। जिससे की सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के मायने गलत साबित हो रहे हैं और इस कानून का कार्यान्वयन सही ढंग से जिला प्रशासन द्वारा नहीं किया जा रहा है जिससे आर0टी0आई0 कार्यकर्ता में रोष है। विवरण के अनुसार सदर विकास खण्ड कन्नौज की नगरीय क्षेत्र के उचित दर विक्रेता सचिव सहकारी क्रय विक्रय समिति अशोक नगर नगरपालिका कन्नौज के सम्बन्धित उपभोकताओं के विषय में एवं मिल रहे व उपलब्ध स्टाक खाद्ययन सामाग्री तथा वितरण प्रणाली आदि के सम्बन्ध में सूचना मंागी थी, तथा स्टाक एवं वितरण प्रणाली में हो रही घपलेबाजी, कालाबाजारी एवं घटतौली आदि व्याप्त भ्रष्टाचार के सम्बन्ध में शिकायती पत्र भी जिला प्रशासन को सौंपा था जिसकी की आज तक सही जाॅच नहीं की गयी और ना ही जिम्मेदार अधिकारी द्वारा कोई ब्यौरा उपलब्ध कराया गया, वहीं पूर्ति निरीक्षक कन्नौज चक्रपाणि मिश्रा की मिली भगत एवं सहयोग से उचित दर विक्रेता द्वारा खाद्यायन सामग्री की  कालाबाजारी की जा रही है तथा समय से एवं सही वितरण न होने से जनता परेशान है वहीं उक्त उचित दर विक्रेता काला बाजारी करने में लिप्त है उसके हौसले बुलन्द है तथा वह नियमों कानून को ताख पर रख कर अपनी मनमानी करने में लगा है। और यह सिलसिला बदस्तूर जारी है मांगी गयी आर0टी0आई0 की समय सीमा बीत जाने के बावजूद आज तक किसी प्रकार से कोई सूचना उपलब्ध नहीं करायी गयी हैं। जबकि इसकी शिकायत लोक शिकायत के अन्तर्गत माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश शासन, प्रमुख सचिव खाद्य एवं रसद, खाद्य आयुक्त एवं जिलापूर्ति अधिकारी कन्नौज से भी की जा चुकी है जिससे की । वहीं जिलापूर्ति अधिकारी वीरेन्द्र कुमार महान का कहना है कि मामले की कोई भी जानकारी मुझे नहीं है जो भी दोषी पाया जायेगा तो उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी। जबकि पूर्ति निरीक्षक कन्नौज चक्रपाणि मिश्रा द्वारा मामले को फर्जी तरीके से निस्तारण करने की तथा मामले को सांठ-गांठ कर रफा-दफा करने की कोशिश की जा रही है और मामले को दबाया जा रहा है। आर0टी0आई0 कार्यकर्ता आलोक कुमार ने बताया कि मामले को पैसे ले दे कर रफा-दफा करने की कोशिश की जा रही है।

No comments:

Post a Comment