Saturday, January 27, 2018

इन 12 लोगों कोमिलेगा पद्म पुरस्कार

केंद्र सरकार ने आज पद्म अवॉर्ड्स का एलान कर दिया. केरल के मेडिकल मसीहा एमआर राजगोपाल, अनुपयोगी सामान से खिलौने बनाने वाले अरविंद गुप्ता और हर्बल दवाओं के क्षेत्र में काम करने वाले लक्ष्मीकुट्टी को पद्मश्री पुरस्कार दिया जाएगा इसके साथ ही गोंड कलाकार भज्जू श्याम और स्वतंत्रता सेनानी सुधांशु बिस्वास को भी पद्मश्री पुरस्कार दिया जाएगा. मुरलीकांत पेटकर को भी पद्मश्री पुरस्कार दिया जाएगा.महेंद्र सिंह धोनी को पद्म भूषण पुरस्कारवहीं क्रिकेट खिलाड़ी और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी, स्नूकर खिलाड़ी पंकज आडवाणी समेत 12 लोगों को पद्म भूषण पुरस्कार दिया जाएगा.पद्म विभूषण पुरस्कार जिन तीन लोगों को दिया जाएगा उनमें दक्षिण भारत के प्रख्यात संगीतकार इलैयाराजा और हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीतज्ञ गुलाम मुस्तफा खान शामिल हैं. बता दें कि हर साल गणतंत्र दिवस के मौके पर पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री पुरस्कार दिए जाते हैं.जिन व्यक्तियों को पद्म पुरस्कार के लिए चुना गया है उनमें से कुछ का परिचय यहां पढ़ें

1. एम आर राजगोपाल (पद्मश्री)इन्हें भारत में ‘पैलिएटिव केयर’ का जनक माना जाता है. ‘पैलिएटिव केयर’ का इस्तेमाल गंभीर रूप से बीमार मरीजों में दर्द कम करने के लिए किया जाता है. राजगोपाल को नवजात बच्चों की सर्जरी में विशेषज्ञता के लिए भी जाना जाता है. उन्होंने 1980 के दशक में नवजात बच्चों की सर्जरी के बाद होने वाली मौतों की संख्या 75 प्रतिशत से कम करके 28 प्रतिशत पर लाने के लिए काम किया. उन्होंने सुरक्षित एनेस्थेसिया प्रक्रिया शुरू की.

2. अरविंद गुप्ता (पद्मश्री): इन्होंने छात्रों की कई पीढ़ियों को बेकार पड़े सामान से सीखने के लिए प्रेरित किया. गुप्ता घरों में इस्तेमाल होने वाली सामान्य चीजों और कचरे का इस्तेमाल वैज्ञानिक प्रयोगों के ब्लाक बनाने के लिए करते हैं. गत चार दशक के दौरान उन्होंने तीन हजार स्कूलों का दौरा किया, खिलौने निर्माण से संबंधित 6200 लघु फिल्में 18 भाषाओं में बनायी. उन्होंने दूरदर्शन पर प्रसारित लोकप्रिय कार्यक्रम ‘तरंग’ की मेजबानी की.

3. सुधांशु बिस्वास (पद्मश्री) 99 वर्षीय स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने अपना जीवन गरीबों की सेवा के लिए समर्पित कर दिया. बिस्वास पश्चिम बंगाल में स्कूल, अनाथालय और डिस्पेंसरी चलाते हैं. पश्चिम बंगाल के सुंदरबन स्थित श्री रामकृष्ण सेवाश्रम के संस्थापक हैं.

4. भज्जू श्याम (पद्मश्री)अंतरराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त गोंड कलाकार हैं, जो मध्य प्रदेश की पारंपरिक आदिवासी पेंटिंग शैली है. श्याम को यूरोप में जीवन को गोंड पेंटिग के जरिये चित्रित करने के लिए जाना जाता है. श्याम का जन्म एक गरीब आदिवासी परिवार में हुआ था. वह आजीविका के लिए रात्रि सुरक्षा गार्ड और इलेक्ट्रिशियन के तौर पर काम करते रहे.

5. लक्ष्मीकुट्टी (पद्मश्री)आदिवासी महिला जो अपनी स्मृति का इस्तेमाल करते हुए जड़ी बूटी से 500 दवाएं तैयार कर चुकी हैं. वह हजारों लोगों की मदद करती हैं, विशेष तौर पर सांप और कीड़ों के काटने के मामलों में. लक्ष्मीकुट्टी दक्षिण भारत के राज्यों में विभिन्न संस्थानों में प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति पर व्याख्यान देती हैं.

6. संदुक रूइत (पद्मश्री)नेत्ररोग विशेषज्ञ हैं जिनकी नयी खोज ने मोतियाबिंद की सर्जरी पर होने वाले खर्च में 90 प्रतिशत कमी लाने का काम किया. वह मोतियाबिंद की सर्जरी में इस्तेमाल होने वाले कम कीमत के लेंस 30 से अधिक देशों को निर्यात करते हैं. वह प्रति सप्ताह 2500 मरीजों का इलाज करते हैं और ऐसे मरीजों की फीस माफ कर दी जाती हैं जो इसे देने में समर्थ नहीं हैं.

7. सम्पत रामटेके (पद्मश्री)रामटेके ने 1991 में सिकन सेल बीमारी के बारे में जागरूकता अभियान चलाया. कोई चिकित्सकीय पृष्ठभूमि नहीं होने के बावजूद उन्होंने इस बीमारी के बारे में जानकारी जुटायी और समय के साथ इसके विशेषज्ञ बन गए.

8. रोमुलुस विटेकर (पद्मश्री) वन्यजीव संरक्षक और सरीसृप विज्ञानवेत्ता जो कि अंडमान निकोबार और तमिलनाडु में जैव विविधता के संरक्षण के लिए काम करते हैं.

9. लेंटीना ए ठक्कर (पद्मश्री) स्थानीय रूप से इन्हें उत्सू :दादी: के तौर पर जाना जाता है. ये गांधीवादी हैं जिन्होंने नगालैंड स्थित चुचुइमलांग गांव में गांधी आश्रम में दशकों तक सेवा की. वह अपने गांव की पहली महिला हैं जिन्होंने कक्षा सातवीं तक की पढ़ाई की साल 2018 इस पुरस्कार के लिए 15,700 लोगों ने आवेदन किया था. राज्य सरकार, केंद्र शासित प्रदेश, मंत्रालय, भारत सरकार के विभाग, मुख्यमंत्री, राज्य के राज्यपाल और संसद के सदस्य भी नामों के लिए सिफारिश कर सकते हैं. पिछले साल 89 लोगों को पद्म पुरस्कार दिया गया था.

No comments:

Post a Comment