Friday, February 2, 2018

सरकारी महिमा अपरंपार-भोला नाथ मिश्रा

सरकार की महिमा अम्परम्पार होती है जिसका पता आजतक कोई ही लगा पाया है सरकार की खूबी है कि वह  कभी दिखाई नही देती है।सरकार दो तरह की मानी गयी है और दोनों को सर्वशक्तिमान माना गया है। ईश्वर को भी सरकार कहा जाता है और ईश्वर कभी दिखाई नहीं देता है। हम संसारिक सरकार को छोटी और ईश्वर सत्ता को बड़ी सरकार कहते हैं। छोटी सरकार के सहारे देश चलता है और कार्यप्रणाली का संचालन होता है जबकि सरकार से संसार की समस्त गतिविधियों का संचालन व नियन्त्रण होता है। सरकार लेता नही बल्कि देता होता है और उसी को सुप्रीम सत्ता माना जाता है। संसारिक सरकार में सभी लेता हैं और सभी को हर महीने वेतन मिलता है। इसलिए जो वेतनभोगी है वह सरकार नही हो सकता है और जो देता होता है वह सरकार  दिखाई नहीं देती है। वही अदृश्य सरकार ही जब लोकतांत्रिक सरकार भंग हो जाती है तब भी सभी कार्यों को सम्पादित करती रहती है और चुनाव कराकर नयी लोकतांत्रिक सरकार का गठन कराती है।इस संसारिक सरकार में राष्ट्रपति तक को वेतन मिलता है और सभी वेतनभोगियों के वेतन की व्यवस्था सरकार भगवान करते हैं।जनता को भी जनार्दन और मतदाता को भी भगवान कहा जाता है क्योंकि उसकी कमाई से ही वेतन मिलता है। सरकार ही ईश्वरीय और संसारिक सरकारों की व्यवस्थाओं का संचालन निष्पादन करती है। सरकार का मतलब सुप्रीमो भी होता है और इसमें जो सुप्रीम होता है उसे सरकार कहा जाता है। गाँव का आम आदमी तो नौकरशाहों से लेकर अपने से अधिक सभी शक्तिशाली लोगों को सरकार कहकर संबोधित करता है। सरकार का मतलब सर्वशक्तिमान भी होता है और सर्वशक्तिमान सिर्फ ईश्वर को माना गया है। एक समय में राजा को भी भगवान का स्वरूप मानकर सम्मान किया जाता था क्योंकि जिंदगी मौत दोनों की शक्ति उसमें विद्यमान थी।सरकार का मतलब सबका पैरोकार संरक्षक होता है जो भेदभाव करता है वह सरकार नहीं हो सकता है।सरकार एक विचारधारा एवं वर्ग सम्प्रदाय के समर्थकों की नही होती है बल्कि वह सभी देशवासियों के लिये होती है। सरकार देश और देशवासियों की पालक पोषक संरक्षक उद्धारक होती है और सरकार के दिशा निर्देशन देशवासियों का सर्वागीण विकास होता है। धन्यवाद।। भूलचूक गलती माफ।। सुप्रभात / वंदेमातरम् / गुडमार्निंग / नमस्कार / अदाब / शुभकामनाएं।। ऊँ भूर्भुवः स्वः--------/ ऊँ नमः शिवाय।।।

          भोलानाथ मिश्र
वरिष्ठ पत्रकार/समाजसेवी
रामसनेहीघाट, बाराबंकी यूपी

No comments:

Post a Comment