Thursday, March 15, 2018

कौशल विकास मिशन के तहत युवावों को मिले लाभ-डीएम

गाजियाबाद जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी ने कौशल विकास मिशन के तहत प्रशिक्षित शत प्रति शत युवक युवतियों को रोजगार में स्थापित कराने की जरूरत पर बल देते हुये प्रशिक्षण प्रदाताओं को निर्देशित  किया है कि वह अपने यहाॅ प्रशिक्षित युवाओं को रोजगार में स्थापित करायें । प्रशिक्षण गुणवत्ता पूर्ण होना चाहिये।
जिलाधिकारी कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में कौशल विकास मिशन की अद्यतन प्रगति की समीक्षा कर रही थी। जिलाधिकारी ने जिला समन्वयक शषि भूशण उपाध्याय को निर्देशित  किया कि वह प्रशिक्षण प्रदाताओं द्वारा संचालित प्रशिक्षण केन्द्रों का नियमित निरीक्षण करें प्रशिक्षण केन्द्रों पर उपस्थिति के लिए वायो मेैट्रिक सिस्टम लगाया जायें । समीक्षा के दौरान प्रशिक्षित लाभार्थियों के सापेक्ष प्लेस मेन्ट की प्रगति सन्तोष जनक न पाये जाने पर जिलाधिकारी ने सम्बन्धित प्रशिक्षण दाताओं को नोटिस जारी करने के लिए कहा। जिलाधिकारी ने प्रशिक्षण केन्द्रों पर प्लेस मेन्ट पाने वाले प्रशिक्षार्थियों के नाम पता तथा जहाॅ पर प्लेस मेन्ट है वहाॅ का विवरण दर्शाने  के निर्देष दिये।
मुख्य विकास अधिकारी रमेश रंजन ने कहा कि जिला स्तरीय अधिकारियों के द्वारा प्रशिक्षण केन्द्रों के निरीक्षण में जो कमियां पायी गई है उन्हें तत्काल ठीक करायें। जिला समन्वयक ने बताया कि वित्तीय वर्श 2014.15 से 2017.18 तक 3370 उत्तीर्ण एवं प्रमाणित लाभार्थियो में से 1075 को सेवा योजित किया गया है।जिलाधिकारी ने कम प्लेस मेन्ट पर गहरी नाराजगी व्यक्त की। बैठक में प्रधानाचार्या, औधोगिक प्रशिक्षण केन्द्र, उपायुक्त स्वतः रोजगार, जिला विकलांग कल्याण अधिकारी, , प्रधानाचार्या पाॅलीटैक्निक प्रशिक्षण केन्द्र, , जिला परियोजना अधिकारी, डूडा,  जिला पंचायत राज अधिकारी,बीरबल एकेडमी एण्ड पब्लिकेशन प्रा0लि0, कन्स्टक्शन इन्डस्ट्रीज डेवलपमेंट काउन्सिल, लोरस ऐजुटेक प्र0लि0, नाॅर्दन इण्डिया टैस्टाइल रिसर्च एसोसिएशन, दि अपैरल ट्रेनिंग एण्ड डिजाईन सैन्टर, आदि द्वारा प्रतिभाग किया गया। अन्त में जिलाधिकारी  के मार्गदर्शन एवं निर्देशन में बैठक की प्रक्रिया सम्पादित कराकर जिला करायें।
 जिला समन्वयक ने बताया कि वित्तीय वर्श 2014.15 से 2017.18 तक 3370 उत्तीर्ण एवं प्रमाणित लाभार्थियो में से 1075 को सेवा योजित किया गया है।
जिलाधिकारी ने कम प्लेस मेन्ट पर गहरी नाराजगी व्यक्त की।

No comments:

Post a Comment