Wednesday, March 21, 2018

लोकसभा में हंगामे के बीच लटका अविष्वास प्रस्ताव

संसद में 12वें दिन भी गतिरोध बना रहा और इस बीच तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) व वाईएसआर कांग्रेस द्वारा अविश्वास प्रस्ताव के लिए दी गई नोटिसों पर चर्चा नहीं हो सकी। वाईएसआर कांग्रेस के सांसद वाई।वी। सुब्बारेड्डी ने लोकसभा सेक्रटरी को बुधवार की कार्यवाही में अविश्वास प्रस्ताव को शामिल करने का नोटिस दिया है।इससे पहले शुक्रवार, सोमवार और मंगलवार को चर्चा के लिए नोटिस दिए गए थे। वहीं हंगामे की वजह से लोकसभा की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित हो गई है और बुधवार सुबह 11 बजे फिर शुरू होगी। अविश्वास प्रस्ताव के समर्थन को लेकर अब तक कई पार्टियों का रुख साफ नहीं हैं। वाईएसआर कांग्रेस के सांसद वाईवी सुब्‍बा रेड्डी ने कहा है कि हम लोकसभा स्पीकर से निवेदन करते हैं कि हमें अविश्वास प्रस्ताव लाने दें, बजट सत्र में अविश्वास प्रस्ताव पर हो चर्चा हो। बजट सत्र के दूसरे चरण की शुरुआत से ही आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा, कावेरी, पीएनबी समेत कई अन्य मुद्दों पर विभिन्न दलों के हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही नहीं चल पा रही है। एक बार के स्थगत के बाद 12 बजे सदन की कार्यवाही शुरू होने पर लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने सदन में व्यवस्था नहीं होने का हवाला देते हुए तेलुगू देशम पार्टी के टी नरसिंहन और वाईएसआर कांग्रेस के वाई बी सुब्बारेड्डी द्वारा सरकार के खिलाफ लाये गये अविश्वास प्रस्ताव को आगे बढ़ाने में असमर्थता जताई।वहीं कांग्रेस, माकपा और राकांपा आदि दलों के सदस्यों की जोरदार नारेबाजी के चलते विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का पूरा बयान नहीं हो पाया। लोकसभा अध्यक्ष ने इस पर दुख प्रकट किया। प्रस्ताव को स्वीकार करने के लिए इसे कम से कम 50 सदस्यों का समर्थन होना चाहिए।
सोमवार को केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सरकार अविश्वास प्रस्ताव का सामना करने के लिए तैयार है। राजनाथ ने कहा, "हम किसी भी तरह की चर्चा के लिए तैयार हैं। हम अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के लिए भी तैयार हैं। मैं सभी राजनीतक दलों से सहयोग की अपील करता हूं।"केंद्रीय संसदीय मामलों के मंत्री अनंत कुमार ने सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले संवाददाताओं को बताया, "हम अविश्वास प्रस्ताव का सामना करने के लिए तैयार हैं, क्योंकि सदन में हमारे पास समर्थन है। हम आश्वस्त हैं।" तेदेपा के सांसद थोटा नरसिम्हन ने कहा कि पार्टी सदस्य पहले सदन में प्रस्ताव पेश करने पर जोर देंगे। उन्होंने कहा कि तेदेपा ने तृणमूल, कांग्रेस और समाजवादी पार्टी सहित विपक्षी दलों से बात कर ली है।

No comments:

Post a Comment