Saturday, March 24, 2018

चैत्र छठ देश भर में धूम धाम से मनाया गया

देशभर में इस वर्ष चैत्र मास की छठ पर्व शुक्रवार को धूमधाम से मनाया जा रहा है। इसे चैती छठ के नाम से भी जाना जाता है। भविष्य पुराण में बताया गया है कि कार्तिक मास की और चैत्र मास की छठ (चैत छठ) का विशेष महत्व है। चैत्र मास में नवरात्र के दौरान ही हर साल षष्ठी तिथि को चैत छठ पर्व मनाया जाता है। पुराण में बताया गया है कि चैत्र मास में सूर्यदेव की पूजा विवस्वान के नाम से होती है।इन दिनों पुराणों के अनुसार वैवस्वत मनवंतर चल रहा है। इस मन्वंतर में सूर्यदेव ने देवमाता अदिति के गर्भ से जन्म लिया था और विवस्वान एवं मार्तण्ड कहलाए। इन्हीं की संतान वैवस्वत मनु हुए जिनसे सृष्टि का विकास हुआ है। शनि महाराज, यमराज, यमुना, एवं कर्ण भी इन्हीं की संतान हैं।भगवान राम भी इन्हीं के वंशज माने जाते हैं क्योंकि उनका जन्म वैवस्वत मनु के पुत्र इच्छवाकु के कुल में हुआ है। इसलिए भगवान श्रीरामचन्द्रजी अपने कुल पुरुष सूर्यदेव की प्रसन्नता के लिए सूर्यपूजा और छठ व्रत किया करते थे। पुराणों में बताया गया है कि इनकी पूजा से पृथ्वीलोक में धन-धान्य, आरोग्य और संतान सुख की प्राप्ति होती है।   भविष्य पुराण में बताया गया है कि इस छठ व्रत से सूर्यलोक में स्थान प्राप्त होता है और अप्सराओं के साथ सुखपूर्वक रहने का अवसर मिलता है। सूर्य षष्ठी व्रत के दिन सूर्यदेव के साथ छठ माता की पूजा का भी विधान है। छठ को संतान सुख प्रदान करने वाला माना गया है। ब्रह्मवैवर्त पुराण के अनुसार सृष्टि से पहले मनु स्वयंभू मनु के पुत्र प्रियव्रत के मरे हुए पुत्र को इन्होंने जीवन प्रदान किया था। इसके बाद राजा प्रियव्रत ने अपनी प्रजा से कहा कि वह संतान सुख एवं धन-धान्य के लिए छठ व्रत करें। उस समय से ही यह व्रत चला आ रहा है। वर्तमान मन्वंतर में भगवान राम और अंगराज कर्ण को सूर्यषष्ठी पूजा की शुरुआत करने वाला माना जाता है।

No comments:

Post a Comment