Tuesday, March 27, 2018

अन्ना के अनशन के चौथे दिन खुली सरकार की नींद

ताज़ा समाचारों के अनुसार आज महाराष्ट्र सरकार के जल संसाधन एवं चिकित्सा शिक्षा के मंत्री श्री गिरीश महाजन अन्ना से रामलीला मैदान में केंद्र सरकार के दूत के रूप में मिलने आये. सरकार के सन्देश के रूप में उन्होंने बताया की उनकी लगभग अस्सी फीसदी मांगे मान ली गयी है जिसे कल तक सरकार लिखित रूप में दे देगी. इन माँगो में प्रमुख रूप से CACP  को संवैधानिक दर्जा देने की बात, साठ वर्षों से ऊपर के उम्र के किसानो को पांच हज़ार रुपये प्रति माह पेंशन, किसानो की फसल की लागत का डेढ़ गुना मूल्य देने की बात है. कृषि को एक उद्योग का दर्जा देने की भी बात पर सहमती हुई है जिससे यांत्रिक कृषि को प्रोत्साहित करके फसल की पैदावार, कम लगत पर ज्यादा प्राप्त की जा सके.  सशक्त लोकपाल की नियुक्ति तथा NOTA को RIGHT TO REJECT का दर्जा देने की बात भी सरकार मानाने वाली है. अन्ना ने सपस्त कहा है की उन्हें सब कुछ लिखित में और आप उसे कैसे लागू करेंगे योजनाबद्ध तारीकी से बतायेंगे. अन्ना ने सरकार से कहा है की उन्हें पूरा ROAD MAP चाहिए.
दूत ने उनकी बात सरकार तक पहुँचाने का आश्वासन दिया है. कल आगे की वार्ता के लिए केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के वार्ता के लिए आने की संभावना है.

No comments:

Post a Comment