Saturday, March 17, 2018

हरियाणा में हेमशा की बैठक आयोजित

झज्जर। हरियाणा एजुकेशन मिनिस्ट्रीयल स्टाफ एसोसिएशन हेमसा सम्बंधित सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के तत्वावधान में स्थानीय खण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय सालाहवास में खण्ड स्तरीय बैठक प्रधान अतुल कुमार की अध्यक्षता में आयोजित की गई। खण्ड स्तरीय बैठक में सभी पदाधिकारियों ने शिरकत की।मुख्य वक्ता राज्य उपाध्यक्ष शर्मिला हुडा ने बताया कि शिक्षा विभाग में काम करने वाले लिपिक वर्गीय कर्मचारियों को आर्थिक खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। सरकारी स्कूलों, खण्ड कार्यालयों व जिला कार्यालय में कार्यरत लिपिक वर्गीय कर्मचारियों को वार्षिक वेतन वृद्धि से वंचित किया जा रहा है। लिपिक वर्गीय कर्मचारियों को वार्षिक वेतन वृद्धि का लाभ टाईपिंग टैस्ट पास करने उपरांत ही देय बनता है।
    उन्होंने बताया कि निदेशक सैकेंडरी शिक्षा हरियाणा के वर्तमान निर्देशों से पहले लिपिक वर्गीय कर्मचारियों का प्रतिमाह टाईप टैस्ट लिया जाना अनिवार्य था लेकिन जून 2015 में निदेशक ने टाईपिंग टैस्ट हर 3 माह के बाद आदेश दे दिए। गौरतलब है कि शिक्षा विभाग में 25 अप्रैल, 2012 को लिपिक वर्गीय कर्मचारियों की नियुक्ति प्रदान की गई थी। शिक्षा विभाग के अधिकारियों के आदेशों की अनुपालना में लिपिक वर्गीय कर्मचारियों का अब तक 45 बार टाईपिंग टैस्ट लिया जाना बनता था लेकिन जिला शिक्षा अधिकारी ने मात्र 4 या 5 बार ही टाईप टैस्ट लिया है। जिससे साफ प्रतीत होता है कि जिला शिक्षा अधिकारी उच्च अधिकारियों के आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ा रहे हैं तथा दिन रात काम करने वाले लिपिक वर्गीय कर्मचारियों को प्रति माह 2500-3000 रुपए आर्थिक खामियाजा उठाना पड़ रहा है।
      हेमसा संगठन ने जिला शिक्षा अधिकारी को बार-बार पत्र के माध्यम से तथा व्यक्तिगत मुलाकात लेकर टाईपिंग टैस्ट लिए जाने का अनुरोध किया है लेकिन शिक्षा अधिकारी के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी। खण्ड स्तरीय बैठक में फैसला लिया गया कि अगर समय रहते लिपिक वर्गीय कर्मचारियों का टाईप टैस्ट नहीं लिया गया तो आगामी 22 मार्च को जिला स्तरीय विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।
  इस अवसर पर मुकेश कुमार, रविंद्र सिंह, अरूण कुमार, सतीश सरजीत, राकेश, पवन सिंह, संदीप कुमार, प्रीतम, ओमबीर, संजय, कविता, महेंद्र आदि मौजूद थे।

No comments:

Post a Comment