Tuesday, April 17, 2018

छोटी छोटी बच्चियों से रेप खत्म होता इन्शानियत का वजूद

  एक समय वह था जबकि राक्षसराज रावण के चगुंल से अपहृत सीता जी को छुड़ाने और रामराज्य की स्थापना के लिये ईश्वर स्वरूप विष्णु भगवान को राम के रूप में अवतरित होना पड़ा था और भगवान श्रीकृष्ण को अपहृत सोलह सौ किशोरियों को बंधनमुक्त कराना पड़ा था। जिस रावण के बंधन से सीता जी को मुक्त कराने के लिए भगवान राम को रावण का वध करना पड़ा था उस रावण का चरित्र था कि उसने सीता जी का अपहरण करने के बाद नारी अस्मिता से खिलवाड़ करने की जगह उसे राजभवन से दूर एक वाटिका में महिला बंदी रक्षकों के साथ रखा  था। इतना ही नहीं बल्कि वह जब भी वहाँ पर जाता था तब अपनी पत्नी के साथ जाता हैं।उसने अपहृत सीता जी को एक माह का समय शादी करने के लिए सोचने के लिये दिया था।जिस समय सीता जी का अपहरण किया गया उस समय न वह किशोरी थी और न ही वह अबोध बच्ची थी बल्कि वह वयस्क विवाहिता थी। इस समय कलियुगी रावणों की संख्या बढ़ती जा रही है जो माह दो माह का समय सोचने के लिये नहीं देते हैं और न ही अपने से दूर रखकर नारी मर्यादा का सम्मान करते हैं बल्कि तुरंत इंसानियत को तार तार कर देते हैं।महिलाओं के साथ बलात्कार के दो रुप होते हैं एक जबरदस्ती अपहृत करके होता है दूसरा किसी के देख लेने पर होता है। किशोरियों का भी यहीं हाल होता है और कुछ शहर व स्थान ही ऐसे होते हैं जहाँ पर किशोरियों का अपहरण कर लिया जाता है। किशोरी का अपने प्रेमी के साथ भाग जाना और पकड़े जाने पर बलात्कार का आरोप लगाना जोर जबरदस्ती की श्रेणी में नहीं आता है। इधर कुछ घटनाएं ऐसी सामने आ रही हैं जिन्हें सुनकर दिल दहल उठता है और मानवता चिघ्घार मारने लगती है।इस समय जम्मू कश्मीर के कठुआ और गुजरात के सूरत में हुयी दो अलग अलग घटनाओं से पूरा देश क्षुब्ध है क्योंकि यह दोनों घटनाएं इंसानियत को कलंकित कर सीता हरण और बलात्कार की परिधि से ऊपर है। किशोरी अथवा महिला सारी दुनियादारी जानती है लेकिन अबोध बच्ची इस दुनियादारी से दूर देवी स्वरूपा होती है अगर बच्चियों के साथ कुछ गलत होता है तो वह रावण से अधिक दंडनीय अपराधिककृत्य है। जम्मू कश्मीर के कठुआ में आठ साल तथा सूरत में बच्ची के साथ किया गया अमानवीय कुकृत्य अक्षम्य अपराध है और ऐसे लोगों को सरेआम तत्काल फाँसी पर लटका दिया जाना चाहिए ताकि भविष्य में कोई बच्चियों के साथ दूबारा ऐसी घिनौनी नीच हरकत करने की हिम्मत न कर सके।ऐसे लोगों को किसी भी दशा में न तो देव स्वरूप इंसान कहा सकता है और न ही राक्षस स्वरूप रावण ही कहा जा सकता है।कठुआ और सूरत में बच्चियों के जिस तरह का व्यवहार किया गया है वह निश्चित तौर पर हत्या और बलात्कार करने से कई गुना बड़ा अपराध है। सरकार को चाहिए कि बच्चियों के साथ होने वाले कुकृत्यों पर रोक लगाने के लिए एक विशेष चाइल्ड एक्ट बनाकर फाँसी का प्रावधान करें तथा ऐसा अमानवीय व्यवहार करने वाले हैवानों के साथ भी अमानवीय कृत्य करते हुय उन्हें तड़फा तड़फा कर सरेबाजार मारा जाना चाहिए। बच्चियों से रेप करना दिमागी पागलपन और दिवालियेपन का प्रतीक है। बलात्कार की परिभाषा परिभाषित करने का समय आ गया है क्योंकि महिला के आरोप मात्र लगाने पर आरोपी को बलात्कारी की श्रेणी में रखना उचित नहीं है।
         भोलानाथ मिश्र
वरिष्ठ पत्रकार/ समाजसेवी
रामसनेहीघाट बाराबंकी यूपी

No comments:

Post a Comment