Thursday, April 26, 2018

सीमा पर सैनिकों की जबाबी कार्यवाही से हुई आतंकियों की तबाही पर लेख भोला नाथ मिश्रा की कलम से

हमारे देश के कर्णधार भले ही उखाड़ पछाड़ की राजनीति में व्यस्त हो लेकिन सीमा पर निगहबानी कर रहे हमारेे भारत माता के सच्चे बहादुर लाडले सपूत अपने कर्तव्यों के प्रति पूरी तरह सजग और चौकस हैं।हमे अपनी सेना सुरक्षा के सिकंदर समान विश्व विजय का हौसला रखने वाले जवानों पर बहुत नाज है और हम हमेशा उनके जज्बे को नमन सलाम करते हैं।हमारी सेना में भारत माता के बलिदानी कर्त्तव्यनिष्ठ एवं धर्मपरायण हिन्दुस्तानी भारतवासी और भारत माता के सच्चे लाल है वहाँ पर न कोई हिन्दू मुस्लिम ईसाई गोरखा होता है और न दो राय होता है। इसीलिए हमारी सेना जब गुस्से में आती है तो एकराय एकरूपता के चलते साक्षात महाकाल और रणचण्डी बनकर दुश्मनों के छक्के छुड़ाकर छठीं का दूध याद दिला देती है।हमारा पड़ोसी हमारे लिए दाद खाज बना हुआ है और न खुद चैन से रहता है और न हमें रहने देता है। पड़ोसी की सेना ने अपनी शक्ति में इजाफा करने के लिये आतंंकियों के रूप में समानांतर सेना गठित कर रखी है जिसे हर तरह की सुरक्षा सरंक्षण प्रशिक्षण और हथियार आदि सुविधा उपलब्ध कराई जाती है।सीमा पर हमारे जवानों को दोहरी मार झेलनी पड़ती है इसके बावजूद हमारे जवान मुंहतोड़ जवाब ही नहीं दे रहे हैं बल्कि दुश्मनों के घर में घुसकर तबाही मचा रहे हैं।इधर कुछ दिनों से जम्मू कश्मीर के रजौरी व पुंछ सैनिक चौकियों तथा रिहायशी इलाकों में हो रही पाकिस्तानी सेना की गोलाबारी का जबाब एक बार फिर तबाही मचाकर दिया है।उधर दक्षिण काशमीर के लाम यानी त्राल इलाके में हमारी ही सेना के सैनिकों ने चार आतंंकियों को भी मौत के घाट उतार दिया है। रजौरी एवं पुंछ सेक्टरों में पाकिस्तानी सेना से मुठभेड़ शुरू हुयी थी क्योंकि वह लगातार घुसपैठ कराने के लिए कृष्णा घाटी सेक्टर में गोलाबारी कर रहा था। इस मुठभेड़ में पांच पाकिस्तानी सेना के जवान जबाबी कार्यवाही के दौरान मारे गये हैं। हमारे बहादुर सुरक्षा बलों ने इस समय सिरदर्द बनते जा रहे नक्सलियों के खिलाफ भी अभिनय छेड़ रखा है और लगातार वह सफलता की तरफ बढ़ते जा रहे हैं। छत्तीसगढ़ से सटे महाराष्ट्र के गढ़ चिरौली जिले के जंगलों में पिछले कई दिनों से चल रही मुठभेड़ में अबतक तीन दर्जन से ज्यादा नक्सली ढेर हो चुके हैं।इनमें से पंद्रह नक्सलियों के शव नदी से निकाले गये हैं। हमारी सेना एवं सुरक्षा बल हमेशा जान हथेली पर रखकर देश की आन बान शान की रक्षा करते हैं और हंसते हंसते और भारत माता की जय बोलते सीने पर गोली खा लाते हैं लेकिन हमारी नींद एवं सुखचैन में खलल नहीं पड़ने देते हैं।हम भारतमाता के रक्षक सेना और सुरक्षाबलों के अर्जुन समान सैनिकों को  नमन।
            भोलानाथ मिश्र
वरिष्ठ पत्रकार/समाजसेवी
रामसनेहीघाट, बाराबंकी यूपी।

No comments:

Post a Comment