Tuesday, May 1, 2018

बोर्ड परीछा परिणाम और टॉपरों पर विशेष

विश्व की सबसे बड़ी परीक्षा सम्पन्न कराने वाले उ०प्र० माध्यमिक शिक्षा परिषद की हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट परीक्षाओं के परसों घोषित परीक्षा परिणामों से एक बार फिर साबित हो गया है कि  प्रतिभाएँ किसी के रहमोकरम की मोहताज नहीं होती है।सोने को लाख कोयले की कोठरी में फेंक दिया जाय किन्तु उसकी चमक कम नहीं होती है और सामने आने का मौका पाते ही दूर से चमकने लगता है।कुछ ऐसा ही हाल बोर्ड परीक्षाओं में शामिल छात्र छात्राओं का होता है और जरूरी नहीं है कि प्रतिभाएँ सिर्फ बड़े महंगे और नगरीय लब्धप्रतिष्ठित विद्यालयों में ही होती हैं।इस बार सत्तर से चौरान्नबें प्रतिशत से भी अधिक अंक पाने वालों में अधिकांश ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यालयों से जुड़े हुए हैं और गरीबीं के दौर में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया है। इस बार परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले सभी छात्र छात्राओं को बधाई शुभकामनाएं देना चाहते हैं और उन छात्र छात्राओं को विशेष तौर हम अपनी शुभकामनाएं अर्पित करना चाहता हूँ जिन्होंने इस परीक्षाफल के शिखर पर जगह बनाकर अपने माता पिता, शुभचिंतकों, शिक्षकों एवं विद्यालय के साथ अपने गाँव तहसील जिले का मान बढ़ाया है। हम अपने बाराबंकी जनपद के सांई इंटर कालेज की प्रबंध कार्यकारिणी से लेकर प्रिंसिपल और शिक्षकों के साथ प्रदेश अन्य टापर छात्र छात्राओं के शिक्षकों अभिभावकों को विशेष धन्यवाद देना चाहते हैं जिनके कुशल निर्देशन में आज यह खुशी का अवसर मिला है।हाई स्कूल में इलाहाबाद की अंजलि सबसे ज्यादा अंक प्राप्त पाने वाली हैं जबकि उनके बाद बाराबंकी के होनहार आकाश वर्मा और फतेहपुर के रजनीश शुक्ल हैं।हमें खुशी है कि हमारे इंटरमीडिएट टापरों में हमारे बाराबंकीे जिले के दो और प्रदेश के अन्य जिलों में सिर्फ एक एक टापर है।वैसे हमारा बाराबंकी जिला भगवान बराह के अवतार क्षेत्र से जुड़ा भगवान राम की अयोध्या से दिली और शारीरक दोनों तरह से जुड़ा हुआ है।बाराबंकी तीन मुख्य नदियों से आच्छादित भगवान विष्णु एवं भगवान शिव के प्राकट्य क्षेत्र के साथ ही यहाँ पर"रब है वहीं रहीम की सादाएं गूजंती हैं। यह क्षेत्र सप्तर्षियों ही नहीं बाबा रामसनेही बाबा टीकाराम सत्यनाम पंथ के प्रेणता विष्णु अवतार माने जाने वाले साहब जगजीवन दास, मलामत शाह हाजी वारिस अली जैसे तमाम संत महात्माओं का क्षेत्र है। बाराबंकी की माटी का एक एक कण हमारी धर्म संस्कृति और अध्यात्मिक उर्जावान है। इतना ही बाराबंकी की शैक्षिक और राजनैतिक वातावरण जगविख्यात है और अगर अपने राज्य में अनिवार्य शिक्षा लागू करने वाले हथौधा के राजा ने बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी बनाने के लिए पंडित मदनमोहन मालवीय जी को दान दिया तो महंत जगन्नाथ जैसे राजनेताओं ने शिक्षा की अलख जिले में जलाई है। हमें खुशी है कि आज भी बाराबंकी आज भी शिक्षा और आध्यात्मिक उर्जा के क्षेत्र में आज भी अग्रणी है और अब हमारे जिले से भी लोग आईएस आईपीएस और पीसीएस बनने का दौर शुरू हो गया है।हम एक बार सभी होनहार देश के भविष्य छात्र छात्राओं को कड़ी मेहनत एवं अनुशासन के मध्य रहकर परिणाम के शिखर तक पहुंचने के लिए उन्हें बधाई शुभकामनाएं शुभाषीश देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना करते हैं।इस बार की परीक्षाएँ पिछले साल से भिन्न परिस्थितियों में हुयी है जिसमें काफी सख्ती के साथ नकल को रोकने के प्रयास किए गए हैं इसके बावजूद छात्र छात्राओं का शिखर पर पहुंचना उनकी योग्यता एवं प्रतिभावान होने का प्रमाण है।सरकार की सख्ती का ही परिणाम था कि लाखों बच्चों ने परीक्षा में हिस्सा नहीं लिया और भाग खड़ें हुये। धन्यवाद।। भूलचूक गलती माफ।। सुप्रभातम / वंदेमातरम् / गुडमार्निंग / नमस्कार / अदाब / शुभकामनाएं।। ऊँ भूर्भुवः स्वः ---------/ ऊँ नमः शिवाय।।।
           भोलानाथ मिश्र
वरिष्ठ पत्रकार/समाजसेवी
रामसनेहीघाट, बाराबंकी यूपी।

No comments:

Post a Comment