Sunday, May 13, 2018

गोंडा का यह बांध हर वर्ष बनता है और हर वर्ष

गोंडा ब्यूरो पवन कुमार द्विवेदी
डीएम ने एल्गिन चरसड़ी बांध का निरिक्षण कर कोई नया काम क्या किया ,प्रति वर्ष यही प्रक्रिया होती है ,दिशा निर्देश देकर सरकारी पैसे का बंदर बाट कर लिया जाता है ,और वह बांध उसी स्थिति में रह जाता है और आस पास के गांवो के जलमंगन होने का खतरा बना रहता है ।वर्षो से यही देखते चले आ रहे है ।यदि वास्तव में बांध को सही तरीके से ठीक करना चाहते हो और प्रसासन के अंदर थोड़ी सी भी शर्म बाकी है तो ईमानदारी से बांध की  स्थिति को ठीक करवा दे ,महज दिशा निर्देश देने से कोई काम बनने वाला नही हैऔर न ही आस पास के ग्रामीणों का कोई भला नही होगा ,आज डीएम गोंडा ने एल्गिन चरसडी बांध का दौरा किया ये दौरा तब सफल माना जायेगा जब बरसात में आस पास के गॉव जलमंगन न हो और न ही ग्रामीणों को पलायन करना पड़े ,क्योकि इस समस्या से प्रति वर्ष हजारो ग्रामीणों को पलायन करना पड़ता है वही जन धन की हानि भी होती है ।इस समस्या के हल के लिए इस बांध का निर्माण कराया गया था ,लेकिन भरष्टाचारियो की नजर से ये भी नही बच पाया ,इस की देख भाल के लिए प्रतिवर्ष लाखों का वारा न्यारा होता है ।अब वर्तमान डीएम जे बी सिह को देखते है कि क्या करते है अब तक के कार्यकाल पर नजर डाली जाय तो नही लगता है कि कुछ नया होगा ,क्योकि इनका कार्यकाल केवल दिशा निर्देश तक ही सीमित है आज तक इन्होंने कोई सख्त कदम आम जन मानस की भलाई के नही उठाया है ।अब कोई चमत्कार हो जाय तो मैं नही कह सकता है । लेकिन मैं उन ग्रामीणो को एक संदेश देना चाहता हू की वे अपने पलायन के व्यवस्था पहले से ही बना ले नही तो उनको काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है ।जिसकी भरपाई में भी ये लोग कमा जायेगे ।

गोंडा डीएम जेबी सिंह ने शनिवार को तहसील करनैलगंज अन्तर्गत एल्गिन-चरसड़ी बंधे का औचक निरीक्षण किया तथा युद्धस्तर पर कार्य कराने के सख्त निर्देश दिए हैं। उन्होंने प्रशासनिक अमले के साथ बाढ़ प्रभावित नकहरा गांव पहुंचकर निर्माणाधीन रिंग बांध के सम्बन्ध में ग्रामीणों से वार्ता की और उनकी समस्याओं को सुना। डीएम ने अधिशासी अभियन्ता बाढ खण्ड को निर्देश दिए कि रिंग बांध का निर्माण कार्य युद्धस्तर पर कराएं तथा बरसात शुरू होने के पूर्व रिंग बांध का निर्माण कार्य पूरा करा दें जिससे बाढ़ के दौरान ज्यादा नुकसान न हो। एक्सईएन बाढ़ खण्ड द्वारा बताया गया कि एल्गिन -चरसड़ी बांध जहां पर कटान हुई है 98 करोड़ रूपए की लागत से लगभग 4.75km रिंग बांध तथा 7 स्पर व 2 कट एन्ड बनाए जाएगें जिससे नदी की धारा नवनिर्मित रिंग बांध को न काट सके। बताया गया कि रिंग बांध क निर्माण का लगभग सत्तर प्रतिशत पूर्ण हो चुका है तथा जून अन्त तक रिंग बांध, स्पर व कट एन्ड का निर्माण कार्य पूरा करा लिया जाएगा। डीएम ने ग्रामीणों से वार्ता कर बाढ़ प्रभावित होने वाले ऐसे सभी ग्रामीण जिनके आवास कच्चे हैं सभी को पक्के आवास दिलाये जाने हेतु सूची तैयार करने के निर्देश एसडीएम करनैलगंज को दिए हैं। डीएम ने रिंग बांध के अन्दर आने वाले सभी ग्रामीणो को आश्वस्त किया कि ऐसे सभी प्रभावित लोग जिनके मकान कच्चे अथवा फूस के हैं उन सभी को पक्के मकान दिए जाएगें। इसके अलावा डीएम ने बाढ़ के पूर्व सभी आकस्मिक सुविधाएं, राहत चैकियों को समय से सक्रिय करने, दवाओं की उपलब्धता, मिट्टी का तेल, जानवरों के चारे-भूसे की व्यवस्था सहित अन्य सभी आवश्यक तैयारियां अभी से कर लेने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। इसके अतिरिक्त बाढ़ क्षेत्र में नावों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए भी एसडीएम को निर्देश दिए। एक्सईएन बाढ़ द्वारा बताया गया कि वर्तमान में नदी की धारा पुरानी धारा से करीब 03km दूर बह रही है ऐसे में कम नुकसान की सम्भावना है। निरीक्षण के दौरान एसडीएम करनैलगंज माया शंकर यादव, सीओ करनैलगंज जटाशंकर राव, तहसीलदार करनैलगंज राम नरायन वर्मा, एक्सईएन बाढ़, नायब तहसीलदार करनैलगंज, ग्राम प्रधान तथा ग्रामीण मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment