Tuesday, May 15, 2018

वित्त और विकास निगम की बैठक में अधिकारियों ने की समीक्षा

गोरखपुर। वित एवं विकास निगम की समीक्षा बैठक में नदारद रहे जनपद कुशीनगर, देवरिया और महाराजगंज के अधिकारी गोरखपुर सर्किट हाउस में हुई बैठक।सरकार विकास कार्यो पर खर्च किये जाने वाली धनराशि की समीक्षा करने के लिए समय समय पर समीक्षा बैठक करती हैं और खर्च हुए धनराशि से कितना विकास हुआ उसका आंकड़ा भी लगाती है लेकिन ताजा मामला यूपी  मुख्यमंत्री के गृह जनपद गोरखपुर का है जहाँ समीक्षा बैठक में गोरखपुर मंडल के कुशीनगर, देवरिया,महाराजगंज के अधिकारीनदारद रहे।इनके खिलाफ सोकाज नोटिस जारी करने एवं अनुशासनिक कार्रवाई का निर्णय लिया गया है। उपनिदेशक समाजकल्याण गोरखपुर को भी नोटिस जारी किया गया है कि उन्होंने अधिकारियों को सूचना देने में क्यों लापरवाही की।
जनपद गोरखपुर सर्किट हाउस में उत्तर प्रदेश वित्त एवं विकास निगम की बैठक में वित्तीय वर्ष 2017-2018 के लिए 2200 लोगों को लाभान्वित करने का भौतिक लक्ष्य रखा गया था। इसके विरुद्ध बैंकों को 1816 आवेदन पत्र भेजे गए, किन्तु मात्र 680 आवेदन पत्र स्वीकृत किए गए, जिसमें कार्य उपलब्धि मात्र 31 फीसदी रही। इसके लिए संबंधित अधिकरियों से स्पष्टीकरण प्राप्त करने के निर्देश दिए गए हैं तथा जनपद की वसूली की स्थिति मात्र 3 फीसदी पाई गई। इसके लिए जिम्मेदार अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए कार्रवाई के निर्देश दिए गए। अध्यक्ष/राज्यमंत्री द्वारा यह भी निर्देश दिए गए कि अगली समीक्षा बैठक में स्वरोजगार योजना के तहत आवंटित धन के विरुद्ध कराए गए कार्य का स्थलीय निरीक्षण करवाया जाएगा। और स्थलीय निरीक्षण में संबंधित कार्य की अनउपलब्धता पाई गई तो विभाग के जिम्मेदार अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी
आदर्श दुबे की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment