Friday, May 4, 2018

सामाजिक कार्यकर्ता अरविंद सागर की कलम से बालू भाई की खुशनसीबी

कुशीनगर मे आये दिन हो रहे घटनाओ के मद्देनजर रखते हुए देखा जाय तो यहां वह बालू भाई सबसे ज्यादा ख़ुशनसीब हैं जिसको पाने हेतु स्थानिय विधायक से लेकर सासंद, विपक्ष, और शासन, प्रसाशन, सब आतुर दिखाई दे रहे हैं पर क्या आप सभी को यह पता है की इतनी बैचैनी किसी जनहित कार्यो को लेकर इंसाफ दिलाने मे न विधायक को और न ही सांसद साहब, विपक्ष को और नही शासन प्रसाशन को जल्दी रहती है पर इस बालू मे ऐसा क्या है की सरकार व विपक्षी के लोग इसको लेकर लङ मरने को आतुर है जबकि इसी विधानसभा मे अनेकों गाँव ऐसे भी है जिसमे लाइट, पानी, सङके, हास्पीटल, पुल, पुलिया, का कार्य इंतजार मे है पर इतनी आतुरता उसमे सांसद साहब या किसी नेता ने कतई नही दिखायी है तो क्या इसे जनता के साथ धोखा माना जाय या अपनी अपनी जेबे भरने की होङ। जनता की लङाई को सरकार अंजान बनकर देख रही है और अपनी क़ानूनी चाबुक चलाने को बेकरार है फिलहाल कुछ भी हो इसमे बालू महाराज की तो चांदी ही चांदी है क्यो की तमकुहीराज विधानसभा क्षेत्र के दियरा मे स्थित बालू महाराज के लिए सभी ने अपनी पुरी जान झोक रखी है पर आखिर क्यो, जबकि इसी विधानसभा मे अनेकों जगह ऐसा भी है जहा अवैध बालू खनन होता है पर वहा कोई क्यो नही पहुँच रहा है यह सोचनिय विषय है सोचियेगा ज़रूर, जब बांध से जनता को खतरा है तो शासन बेखबर कैसे है? सांसद साहब कहा सो रहे हैं क्या उन्हे कोई जगायेगा की इस क्षेत्र मे आपकी ज़रूरत है पर सांसद जी अपनी बङे बङे कार्यो मे मसहूल हैं लेकीन यह जरूर दिखा कर अपनी पीठ थपथपा रहे हैं की इस लोक सभा मे हर जगह गाँव रौशन हो चुका है पर इतने बडे सासंद साहब से सवाल कोई करे तो करे कैसे। खैर हमे इन सब से क्या लेना देना है हमे तो लोगो को सच्चाई दिखानी है की भाईयों जनता के वादो पर खरा न उतरने वाले सभी नेता बालू को बचाने मे लगे हुए हैं हमे तो लगता है की कुशीनगर मे घटित हो रही घटनाओ को देखे तो इन सभी से ज्यादा आवाज बुलंद बालू बाबा को लेकर हो रही है। क्या यहां इंसानो से ज्यादा रहम बालू पर की जाती है, क्या जनता के वादो पर खरा उतरने की कोई जल्दी किसी नेता को नही है आखिर क्यो, कुशीनगर का सारा सिस्टम भ्रष्ट हो चूका है पर लोगो को *👉बालू जनता और वो👈* मे उलझाया जा चूका है पर किसी मे यह हिम्मत नही है की मानव रहित जगहों की जरूरतें पुरी की जाय, शायद इसमे राजनीति अथवा लोभ लालच वोट की नही दिख रही है जब ही तो जगदीशपुर की बेटी के लिए कोई नेता लोग आगे नही आ रहे है क्यो की यहाँ वोट या तो कटने की डर सता रहा है अथवा अपनो की फसने की, तो कया माना जांय कुशीनगर की इस मासूम जनता को कुछ तथाकथित लोगो ने #बालू_जनता_और_वो मे ही ऊलझा के रख दिया है, लेकीन मासूम बच्चो की मौत पर फोटो खिचाया जा सकता है पर फाटक के लिये आवाज नही उठाया जा सकता है क्यो की इसमे जब राजनीति की रोटियां नही सेंकी जा सकती थी शायद, इस विधानसभा की यह हालात है की यहा सिर्फ तारीखों पर कार्य होता है विकास पर नही, यहा सिर्फ आपको गुमराह किया जाता है इंसाफ पर नही, यहा सिर्फ आपको दौङाया जाता है विश्वास पर नही, यहां से लोग मंत्री रह जाते हैं पर जनता की हालत जस के तस बनी रहती है फिर भी लोग कोई सवाल नही करते है। तो क्या माना जाय की सत्ता मे रहने पर सब कुछ उलट किया जा सकता है और अपनी जेबे भरी जा सकती है पर विकास नही किया तो कोई डर नही रहता है धन्य हैं ऐसे लोग जो ऐसे नेताओं से कुछ पूछते नही हैं और उन्हे शह देते हैं।

कलम से
अरविंद कुमार सागर
सामाजिक कार्यकर्ता
कुशीनगर उत्तर प्रदेश

1 comment:

  1. जी बहुत बहुत धन्यवाद और आभार

    ReplyDelete