Sunday, May 6, 2018

राजस्थान में मानवाधिकार परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष गोपाल दास लश्करी ने कार्यक्रम के माध्यम से दिया ये सन्देस

राजस्थान के पिपलिया कला में एक कार्यक्रम के माध्यम से मानवाधिकार परिषद राष्ट्रीय अध्यक्ष गोपालदास लश्करी ने जनता को बेटी बचाओ औऱ शिक्षित करो का संकल्प लिया। और अपने कार्यक्रम के माध्यम से मजदूरों के लिए श्रमिक कार्ड बनवाने के लिए मजदूरों को सरकार की योजनाओं के बारे में अवगत कराया और सब मजदूरों को श्रमिक कार्ड बनाने के लिए प्रेरित किया श्रमिक कार्ड से मिलने वाले फायदों के बारे में बतायाें  जो यह है *हर गरीब श्रमिक तक पहुचांए समझाए उनको अगर गरीबों के सच्चे हितेशी हों तो
श्रमिक (मजदुर) कार्ड के फायदे
श्रमिक कार्ड बनाने से होने वाले फायदे :-
1. लड़के के जन्म पर 20 हजार रुपये,
लड़की के जन्म पर 21 हजार रूपये मिलेंगे 
(अधिकतम 2 बच्चों के जन्म पर )

2. 2 श्रमिक कार्डधारी के बच्चो को पढ़ाई में मिलने  वाली छात्रवर्ती
कक्षा 6 से 8         :- 8000 रुपये
कक्षा 9 से 12      :- 9000 रुपये
आईटीआई          :- 9000 रुपये
डिप्लोमा             :-10000 रुपये
बीए (BA)           :-13000 रुपये
एमए (MA)         :-15000 रुपये  की छात्रवर्ती पढ़ाई करने वाले छात्र (लड़के) को मिलेगी । लड़को को मिलने वाली राशि से 1000 रुपये अधिक छात्रा (लड़की) को मिलेगी ।
3. 2 लड़कियों  की शादी पर अथवा 18 वर्ष की उम्र होने पर दोनों को अलग अलग 55-55 हजार रूपये की  सरकारी सहायता मिलेगी।  (शादी के समय लड़की 8वीं पास हो, उम्र 18साल हो, घर मे शौचालय (टॉयलेट) हो, श्रमिक कार्ड बने हुए 1 साल हो गया हो )
अधिकतम 2 लड़कियों को ही मिलेगी

4. जमीन का पट्टा होने पर  1 लाख 50 हजार की सहायता
5. दुर्घटना होने पर  30 हजार से 5 लाख तक की सरकारी सहायता

श्रमिक बनवाने की उम्र अवधि-
18 वर्ष से 58 वर्ष की उम्र तक कोई भी पुरुष या महिला ये श्रमिक कार्ड बनवा सकते हैं ।

श्रमिक कार्ड बनवाने के लिये आवश्यक दस्तावेज* :-
राशन कार्ड, आधार कार्ड, पहचान पत्र,भामाशाह कार्ड, बैंक डायरी, फोटो रंगीन 2, नरेगा में काम किया हैं तो जॉब कार्ड,
90 दिन का कार्य अनुभव प्रमाण पत्र ,

सभी से निवेदन हे की कृपया इस जोरदार योजना का लाभ आमजन तक पहुंचाए ।।।
हर एक गरीब श्रमिक तक पहुंचाए
और लड़कियों के जन्म के बाद कई तरह के भेदभाव से गुजरना पड़ता है जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, खान-पान,अधिकार आदि दूसरी जरुरतें है जो हर लड़कियों को प्राप्त होनी चाहिये। हम सब कह सकते है कि महिलाओं को सशक्त करने के बजाय अशक्त किया जा रहा है। इस सरकार में महिलाए हर चीज से वंचित है सुरक्षित नही है महिलाओं को सशक्त बनाने और जन्म से ही अधिकार देने के लिए हम इस सरकार से लड़ेंगे।महिलाओं के सशक्तिकरण से सभी जगह प्रगति होगी खासतौर से परिवार और समाज में लड़कियों के लिये मानव की नकारात्मक पूर्वाग्रह को सकारात्मक बदलाव में परिवर्तित करने के लिये हम काम करेंगे। लड़कों और लड़कियों के प्रति भेदभाव खत्म ख़त्म करेंगे।इस सरकार से महिलाओं की सुरक्षा के लिए हम लड़ेंगे और उसका अधिकार दिला के रहेंगे। इस कार्यक्रम में मजदूर मोर्चा के पाली जिला उपाध्यक्ष लालाराम अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष मोहम्मद अकरम और राकेश पवार कालूराम और पाली जिले के मजदूर उपस्थित थे

No comments:

Post a Comment