Saturday, May 26, 2018

विकास खण्ड कर्मी बेलगाम सरकारी आदेश की उड़ाते खुलेआम धज्जियां

  गोंडा ब्यूरो पवन कुमार द्विवेदी           गोंडा जनपद के इटियाथोक विकास खंड के कर्मी बेलगाम हो गए ,न उनके आने का समय और न जाने का समय और और न ही जनता के मिलने व उसके कार्यो को करने का इनके पास कोई समय नही है ।सरकार के द्वारा आमजनमानस के लिए सरकार के द्वारा चलाई गई योजनाओ को पहुंचाने की जिम्मेदारी निर्धारित की गई है ,लेकिन ये कर्मचारी आम जनमानस के साथ दोयम दर्जे का व्यवहार करते है ,आम आदमी जब कोई काम कराने के लिए मुख्यालय पर आते है यहां न तो कोई कर्मचारी ,अधिकारी ,और न ही बीडीओ ही मिलते है ,अब ऐसे में प्रश्न उठता है कि बेचारे आम आदमी की क्या गलती है  एक छोटा सा उदाहरण से समझिये की एक परिवार रजिस्टर नकल के लिए महीनों चक्कर लगाना पड़ता है ,अब इसी से समिझये की और कार्यो के लिए कितनी भागदौड़ करनी पड़ती होगी ।ये अधिकारी कर्मचारी इतने बिंदास है जब इनकी इच्छा होती है वही कार्य करते है इन पर सरकार का कोई भी आदेश मायने नही रखता है ।अगर कोई अधिकारी इन पर दबाव बनाने का प्रयास करता है तो ये लोग मिलकर उसी के खिलाफ मोर्चा खोल देते है ।अब इनपर अंकुश कैसे लगाया जाये यह एक बहुत ही बड़ा प्रश्न है ।अब इन अधिकारियो की विलासिता की वजह से ही आम जन मानस का कार्य नही होता है वही दबंगो ,माफियाओं व दलालो का काम बड़े आसानी से होता है ।विकास खंड अपने नाम के विपरीत कार्य करता है ,नाम है विकास खंड होता है यहाँ विनाश ।सरकार की बहुत ही बड़ी कमी है कि सरकार विकास खंड पर खंड विकास अधिकारियो की नियुक्ति नही कर पा रही है ,काम चलाऊ खंड विकास अधिकारी से काम चला रही है ।यदि सरकार आम जन मानस की भलाई के कार्य करना चाहती है तो सबसे पहले विकास खंड को सुधारना होगा नही तो विकास कार्य सही तरीके से नही होगा ।जब सरकार व प्रशासन मिलकर एक विकास खंड को नही सुधार पा रहे है तो प्रदेश को क्या सुधारेंगे ये एक बहुत ही बड़ा प्रश्न है सरकार व प्रशासन पर सवालिया निशान लगना स्वाभाविक है ।

No comments:

Post a Comment