Friday, May 11, 2018

मीडिया के बढ़ते दायरे के दौर में मीडिया को कलंकित करते कुछ न्यूज़ चैनल

आज के बदलते समय में मीडिया के कार्यक्षेत्र का विस्तार होता जा रहा है और मीडिया अब अखबार दूरदर्शन और इलेक्ट्रॉनिक समाचार तक ही सीमित नहीं रह गयी है। इस समय मीडिया के क्षेत्र में सोशल मीडिया महत्वपूर्ण भूमिका निभाने लगी है और व्हाट्स अप फेसबुक एवं यूट्यूब आदि के माध्यम से भी समाचारों को खासोआम तक पहुंचाया जाने लगा है।अबतक लोग इलेक्ट्रॉनिक चैनलों पर ही समाचार को तोड़ मरोड़कर प्रस्तुत करने के आरोप लगाये जा रहे थे लेकिन अब सोशल मीडिया के आने के बाद समस्या बढ़ गयी है और लोग इसका इस्तेमाल मनमाने तरीके से तोड़ मरोड़ कर नहीं बल्कि उलट पलट कर सम्मानित लोगों को बदनाम एवं राजनैतिक स्वार्थ पूर्ति के लिए किया जाने लगा है। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के बाद सोशल मीडिया इस समय सबसे ज्यादा चर्चा में आ गयी है और गलत भ्रामक सूचनाओं और कीचड़ उछालने का दौर शुरू हो गया है जिससे मीडिया क्षेत्र कलंकित होने लगा है।सोशल मीडिया धीरे धीरे विवादों से घिरती और मीडिया क्षेत्र से जुड़े लोगों का सिर शर्मिंदगी से झुकाने लगी है क्योंकि आमतौर पर चैनल अन्य संदेश प्रेषक माध्यमों को लोग आमतौर पर सीधे "मीडिया" से जोड़कर उस पर प्रतिक्रिया देते  है। हर मीडिया को पत्रकार कहा जाता है और इसी सोशल मीडिया की गैर जिम्मेदाराना गलत भ्रामक समाज विरोधी संदेशों के चलते कई स्थानों पर हिंसा जातीय संघर्ष एवं साम्प्रदायिक सद्भावना बिगड़ चुकी है और तमाम मुकदमें दर्ज हो चुके हैं। स्थिति इतनी बिगड़ गयी है कि लोगों को अपनी इज्ज़त समाजिक मान मर्यादा बचाने में लाले पड़े हैं। अभी परसों इसी तरह सोशल मीडिया पर जारी एक समाचार को लेकर तनाव फैल गया है और एक मुकदमा भी बाराबंकी कोतवाली में दर्ज कराया गया है। इस मुकदमे में हिमालय एवं हिन्दुस्तान न्यूज चैनल पर गलत भ्रामक तथा चरित्र हनन करने का आरोप लगाया गया है।मुकदमा दर्ज होते ही पुलिस दोनों न्यूज़ चैनलों के दफ्तरों की तरफ रवाना हो गई है और उनके संचालकों की तलाश शुरू हो गई है।इन दोनों न्यूज़ चैनलों की गैर जिम्मेदाराना हरकतों के चलते पूरे मीडिया समाज का सिर शर्म से झुक गया है। अभी उन्नाव जिले के भाजपा विधायक पर लगे दुष्कर्म का मामला चल ही रहा था कि इसी बीच एक बेगुनाह बेकसूर भाजपा विधायक सतीश शर्मा को बैठे बिठाये जाल में फंसा दिया गया। एक युवती की तरफ से अभी तीन चार पहले लखनऊ जिले के गाजीपुर कोतवाली में एक कथित अधिवक्ता सतीश शर्मा पर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया गया है। इस मुकदमें को तोड़ मरोड़ कर हमारी मीडिया के दो चैनलों ने लखनऊ के अधिवक्ता सतीश शर्मा को दरियाबाद विधानसभा क्षेत्र के युवा सम्मानित विधायक बना दिया है।इस समाचार के वायरल होने के बाद विधायक के पैरों तले जमीन खिसक गयी है और वह बेचारे हक्का बक्का दंग रह गये हैं और उनके लाखों समर्थकों में इस कदर आक्रोश व्याप्त हो गया है कि उन्होंने मानहानि और कूट रचना का मुकदमा दर्ज करा दिया है।इस गलत समाचार वायरल होने के बाद एक फिर सोशल मीडिया मात्र दो गैर जिम्मेदार चैनलों के चलते कटघरे में खड़ी हो गई है। इस तरह की गलत हरकत करके मीडिया को कंलकित करने वाले दया नहीं बल्कि दंड के भागीदारी है और सभी मीडिया क्षेत्रों से जुड़े मीडियाकर्मियों को इसकी निंदा करनी चाहिए। कहावत है कि तालाब में एक मछली पूरे तालाब के पानी को गंदा कर देती है। धन्यवाद।। भूलचूक गलती माफ।। सुप्रभात / वंदेमातरम् /गुडमार्निंग / नमस्कार / अदाब / शुभकामनाएं।। ऊँ भूर्भुवः स्वः -------/ ऊँ नमः शिवाय।।
          भोलानाथ मिश्र
वरिष्ठ पत्रकार/समाजसेवी
रामसनेहीघाट, बाराबंकी

No comments:

Post a Comment