Saturday, June 16, 2018

आज के दौर में शराफत हुई विलुप्त हावी हुआ स्वार्थ

गोंडा ब्यूरो पवन कुमार द्विवेदी  
वर्तमान समय मे शराफत से रहना भी मुश्किल है ।व किसी की कोई बस्तु लोग प्रेम व सेवा भाऊ से नही बल्कि दबंगई ,मक्कारी व चालबाजी से हासिल करने में अपनी योग्यता समझते है ।ऐसी एक कहानी इटियाथोक निवासी राम सबद द्विवेदी  ।जिनके कोई संतान नही है ,वे अपने भाई व उनके छोटे बेटे के साथ रहते थे।उनके भाई का बड़ा बेटा व उसका परिवार अलग रहता है ,उसका इस परिवार से कोई लेना देना था । उनके छोटे भाई का बड़ा बेटा व उसका परिवार पूरी तरह कलयुगी था ,अलग रहने के बाद भी आये दिन मारपीट गाली गलौज करता रहता था ,इसी सब को दृष्टिगत रखते हुए रामसब्द ने अपने छोटे बेटे के नाम अपनी चल अचल संपत्ति का रजिस्टर्ड वारिस बना दिया ।जिसको लेकर विपक्षियो ने उतना उत्पीड़न किया उसका बयान कर पाना मुश्किल है अपने बाप से जबरन अपने हिस्से की जमीन बैनामा करवा लिया ,केसीसी खाता बंद करवा दिया ,विजली बिल न जमा कर बिजली अलग  लगवा लिया ।इन सब के बाद भी राम सबद ने अपनी वसीयत में कोई परिवर्तन नही किया ।उनकी मृत्यु के बाद छोटे बेटे ने एक पुत्र की भांति उसने क्रिया कर्म किया ।उसके बाद विपक्षियो का कहर फिर इस परिवार पर टूट रहा है ,वे छल ,बल व मक्कारी व दबंगई के बल पर सम्पति को हासिल कर लेना चाहते है । आये दिन गाली गलौज ,व अन्य क्रिया कलाप कर रहे है।प्राथना पत्र डाल रहे है ।वही जिस बाप से सम्पति ले लिया है उसको न तो खिला पिला रहे है ,उसका छोटा बेटा खिला पिला रहा है व पर भी खाने पीने नही दे रहे है ।इनका साथ ग्राम पंचायत के प्रधान प्रतिनिधि व कुछ जमीन के लालची लोग समर्थन कर रहे है ।अब ऐसे में एक सवाल यह उठता है कि कोई व्यक्ति अपनी मर्जी से कोई चीज़ दे नही सकता व ले नही सकता है ।सेवा कोई करे ,पेड़ कोई लगाए फल तो यही मक्कार लोग ही खाएंगे ।विडंबना यह है कि कानून भी इन्ही मक्कारो का साथ दे रहा है ।अब ऐसे में सरीफ लोग कैसे जिये ।यह घटना जब एक पत्रकार के साथ घट रही है तो आम इंसानों के साथ क्या हो रहा होगा वह तो कल्पना से परे है ।मैं सभी पत्रकार भाईयो ,शासन व प्रशासन के लोगो से अनुरोध कर रहा हूँ कि मुझे न्याय दिलाने में मेरी मदद करे ।कही ऐसा न हो  कि आप लोगो का यह  भाई क्रांतिकारी न बन जाये ।फिर आपही लोग कहेंगे कि हमको बताना चाहिए ,कानून का सहारा लेना चाहिए था ।सब करके देख लिया है ।अपने मामले में आक्रोश भी नही दिखा पा रहा हूँ ।।       पत्रकार पवन कुमार द्विवेदी  इटियाथोक गोंडा यूपी थाना कोतवाली इटियाथोक  ।

No comments:

Post a Comment