Friday, June 8, 2018

पहली बार एक्शन में दिखे सीएम अफसरों में मची खलबली

गोंडा ब्यूरो पवन कुमार द्विवेदी

गोण्डा। सूबे के फायरब्रांड व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रदेश सरकार का एक वर्ष पूरा होने पर अब विकास कार्यों का स्थलीय निरीक्षण करने निकल पड़े हैं। इस दौरान उनको जहां भी कोई काम ठीक नहीं लग रहा है। वहां पर वह बड़ा एक्शन ले रहे हैं।
इसी क्रम में मुख्यमंत्री योगी ने इस एक्शन के क्रम में आज बड़ा एक्शन लिया है। उन्होंने इससे पहले तो इंजीनियर या फिर अन्य छोटे अधिकारियों को निलंबित किया था। आज उन्होंने गोण्डा के साथ ही फतेहपुर के जिलाधिकारी को निलंबित कर दिया। गोंडा के जिलाधिकारी जेबी सिंह तथा फतेहपुर के जिलाधिकारी कुमार प्रशांत के खिलाफ इस कार्रवाई से सूबे के प्रशासनिक महकमे में काफी खलबली मच गई है। जे0बी0 सिंह तथा कुमार प्रशांत को अवैध खनन पर रोक लगाने में नाकाम होने के कारण यह दंड झेलना पड़ा है। यही नहीं अवैध खनन के साथ ही कुमार प्रशांत तथा जेबी सिंह पर वित्तीय अनियमितता के आरोप लगे हैं।
इससे पहले प्रदेश सरकार ने खनन विभाग के निदेशक डॉ. बलकार सिंह को हटाकर बस्ती का जिलाधिकारी बनाया था। उन्होंने जब 15 दिन तक बस्ती के डीएम का काम नहीं संभाला तब फिर डॉ. राजशेखर को बस्ती का डीएम बनाया। डॉ. बलकार सिंह को एक बार फिर निदेशक खनन के पद पर तैनात किया गया, लेकिन कल ही उनको इस पद से हटा दिया गया।
एक्शन में सीएम योगी आदित्यनाथ, अवैध खनन के मामले में छह जिम्मेदार सस्पेंड
विशेष सचिव एवं निदेशक भूतत्व एवं खनिकर्म बलकार सिंह को प्रदेश सरकार ने कल निदेशक दिव्यांगजन सशक्तीकरण बनाया गया है। मंगलवार को ही सरकार ने उनकी बस्ती के डीएम पद पर की गई तैनाती निरस्त की थी। उन्हें भूतत्व एवं खनिकर्म विभाग में बने रहने के आदेश दिए थे। 24 घंटे के भीतर उनका तबादला निदेशक दिव्यांगजन सशक्तीकरण के पद पर कर दिया।
प्रदेश सरकार ने 25 मई को उनका तबादला विशेष सचिव एवं निदेशक भूतत्व एवं खनिकर्म से बस्ती के डीएम पद पर कर दिया था। बलकार सिंह बस्ती जाने को तैयार नहीं हुए। वह पश्चिम यूपी के जिले में तैनाती चाह रहे थे। उनका बस्ती डीएम पद पर तबादला मंगलवार को निरस्त कर दिया गया। इसके साथ ही उन्हें विशेष सचिव एवं निदेशक भूतत्व एवं खनिकर्म विभाग में बने रहने के आदेश दिए। इस आदेश के जारी होने के 24 घंटे के भीतर ही सरकार ने उन्हें खनन विभाग से हटा दिया। अब उन्हें निदेशक दिव्यांगजन सशक्तीकरण बनाया गया है।  गोंडा में जिस तरह से सभी कामो में शिथिलता बरती जा रहा थी ।जिसके कारण हर विभाग में लूट खसोट मची हुई है चाहे वो गोंडा महोत्सव ,टेंडर ,खाद्यान की काला बाजारी ,स्वच्छता मिशन ,ग्रामोदय कार्यक्रम हो केवल आँकड़ो का खेल किया गया ,वही जिलाधिकारी केवल दिशा निर्देश देते रहे ।धरातल पर कोई कार्य दिखाई नही दे रहा था ।कई बार इस विषय मे समाचार का भी प्रकासन किया गया लेकिन नतीजा ढाक के तीन पात ही रहा ।पहली बार लगा कि सूबे में सरकार चल रही है ।अगर सरकार को 2019 में बहुमत तक पहुँचना तो आम जन मानस को ध्यान में रखकर फैसले लेने होंगे व कानून व्यवस्था पर भी विशेष ध्यान देने की जरूरत है ।वोटरों को लगना चाहिए कि जिस पार्टी को मैंने वोट दिया था वो मेरे भले के बारे में सोच रही है ।काम ऐसा होना चाहिए कि जिससे अधिक लोग खुस हो ।कानून व्यवस्था इस तरह हो अगर जिसने गलत किया हो वो चाहे जिस पद पर उसके साथ वही व्यवहार हो जो आम आदमी के साथ हो रहा है ।इसी तरह की कार्यवाही की सख्त जरूरत है ।

No comments:

Post a Comment