Thursday, June 14, 2018

अपने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के समर्थन में सड़कों पर उतरी दिल्ली

नई दिल्ली -पिछले कई दिनों से एलजी से मिलने के लिए एलजी हाउस में अपने तीन मंत्रियो के साथ बैठे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से अभी तक एलजी ने मिलने का समय नही दिया है जिससे नाराज दिल्ली की जनता ने भारी संख्या में अपने विधायकों संग एलजी आफिस का घेराव किया और तानाशाही नही चलेगी एलजी वापस जाओ के नारे लगाए।
आपको बताते चले कि दिल्ली एक केंद्र शासित प्रदेश है जिस कारण से इसका फायदा उठाकर भाजपा सरकार अपनी राजनीतिक ईर्ष्या के कारण दिल्ली के विकास में रोड़ा अटकाने का काम निरन्तर करती आई है लेकिन अब बात काफी आगे बढ़ चुकी है और दिल्ली में  पिछले कई महीनों से एलजी को आगे कर उनके इशारे पर दिल्ली के विकास कार्य को ठप्प करवा दिया गया है जिससे केजरीवाल की फजीहत हो और जनता केजरीवाल से नाराज हो जाये और यही कारण है कि एलजी के इशारे पर सभी आईएस अधिकारियों को सरकार की किसी भी मीटिंग में आने से भी रोका जा रहा है।जिससे दिल्ली का विकास लगभग ठप्प होता जा रहा है और यही कारण है कि मुख्यमंत्री आपनी जनहितकारी मांगो को लेकर
(मांग 1-सभी आईएस अधिकारियों को काम पर लौटाया जाए।जिससे सरकार का काम सुचारू रूप से चल सके
2-जनता के लिए डोर टू डोर इस्टेप डिलवरी वाली फाइल पास की जाए जिससे जनता को घर घर राशन पहुंचाया जा सके।)
पिछले चार दिन पहले एलजी से मिलने गए थे लेकिन कई दिन बीतने के बाद भी एलजी को मुख्यमंत्री से मिलने का समय तक नही मिला है मतलब साफ है वो मुख्यमंत्री से मिलना ही नही चाहते इससे दुःखी होकर मुख्यमंत्री केजरीवाल सरकार के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ,और सतेंद्र जैन ने आमरण अनशन सुरु कर दिया है  और एलजी हाउस में ही बैठ गए जिसकी जानकारी होने पर दिल्ली की जनता  आक्रोशित होकर भारी संख्या में अपने चुने हुए प्रतिनिधयों संग कर एलजी आफिस पहुँच गयीं लेकिन वहां पहले से ही तैनात भारी संख्या में पुलिस ने उन्हें अपने मुख्यमंत्री से मिलने नही दिया इसके बावजूद भी जनता वहां डटी है।
इस मामले में बात करने पर आप नेताओ ने बताया कि
जब तक हमारी मांगे मानी नही जाएंगी हम अनशन नही तोड़ेंगे क्योकि हम अपने लिए नही बल्कि जनता के लिए बैठे है आज तो अभी ट्रेलर है लेकिन अगर एलजी की तानाशाही यूँ ही चलती रही तो रविवार को इससे भी बड़ा आंदोलन होगा हम झुकने वाले नही है क्योंकि हम अपने लिए नही आये है जनता ने हमे चुनकर भेजा है एलजी को नही इसलिए जनता जवाब हमसे मांगेगी अगर एलजी यूही हमारे हरकार्य में रोड़ा अटकाते रहेंगे तो हम काम कैसे करेंगे ।और ये सही भी है मतलब साफ है अब दिल्ली की राजनीति एक नई राजनीतिक करवट लेने वाली है।

No comments:

Post a Comment