Monday, June 4, 2018

गोरखपुर में विश्वकर्मा समाज की अधिकार रैली का भव्य आयोजन

आज गोरखपुर के सत्यम लान तारामंडल में विश्वकर्मा समाज के तत्वाधान में विश्वकर्मा अधिकार रैली का भव्य आयोजन श्री राम अवतार विश्वकर्मा की अध्यक्षता में संम्पन्न हुआ, कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व मंत्री श्री राम आसरे विश्वकर्मा, तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में डॉo एस एन विश्वकर्मा सहित पार्षद संतराज शर्मा, युवा जिला अध्यक्ष यशपाल विश्वकर्मा, नगर अध्यक्ष बृजेश विश्वकर्मा, मंदिर प्रधान शिव रतन विश्वकर्मा "लाली", राजेश्वरी शर्मा, पूर्व प्रधान दया शंकर शर्मा , नगर प्रभारी विनोद विश्वकर्मा, उमेश शर्मा, दीपक शर्मा, डॉ श्याम लाल विश्वकर्मा, सहित गोरखपुर जिले के आस पास से हजारों की संख्या में विश्वकर्मा समाज के लोगो ने कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज की, कार्यक्रम का संचालन विश्वनाथ विश्वकर्मा जी ने किया ।
विश्वकर्मा समाज को उनकी जनसंख्या के अनुसार सरकारी नौकरियो लोकसभा  विधानसभा और सरकार में भागीदारी सुनिश्चित किया जाय।उक्त बाते कार्यक्रम के मुख्य अतिथि, अखिल भारतीय विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्वमन्त्री श्री राम आसरे विश्वकर्मा ने आज कही।
श्री विश्वकर्मा ने कहा कि विश्वकर्मा समाज सदियो से उपेक्षा और पिछडेपन का शिकार रहा है।अपनी कुशल कारीगरी कला कौशल के माध्यम से  विश्वकर्मा समाज ने अपने परिश्रम से देश और समाज के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है लेकिन आज तक इस समाज के सामाजिक आर्थिक और राजनैतिक उन्नति के लिये कोई  नीति नही बनायी गयी।विश्वकर्मा समाज के प्रमुख कारोबार लोहे और लकडी के कारोबार पर बहुराष्ट्रीय कम्पनियों का कब्जा होने के कारण समाज के लोग बेरोजगारी और भुखमरी के कगार पर पहुच गये हैं।इनके रोजगार का अब तक कोई प्रबन्ध नहीं किया गया। सामाजिक और राजनैतिक पहचान न होने के कारण लोग लगातार उत्पीडन और उपेक्षा के शिकार हो रहे है। देश की लोकसभा और विधानसभा में विश्वकर्मा समाज का एक भी सांसद और विधायक न होने के कारण समाज की आवाज दब गयी है।हमारी मांग है विश्वकर्मा समाज को उनकी आबादी के अनुरुप सरकारी नौकरियों लोकसभा और विधानसभा तथा सरकार में भागीदारी सुनिश्चित की जाय। विश्वकर्मा समाज के गौरव और स्वाभिमान के प्रतीक भगवान विश्वकर्मा के पूजा दिवस 17 सितम्बर को सरकार राष्ट्रीय अवकाश घोषित करे।लकडी और फर्नीचर के व्यवसाय पर लागू 18 प्रतिशत जीएसटी समाप्त किया जाय। आरामशीनो का लाईसेंस विश्वकर्मा समाज के कारोबार के लिये खोला जाय।पुश्तैनी रुप से विश्वकर्मा समाज के कुशल कारीगर लोहार बढई के युवको को आई टी आई का प्रमाणपत्र दिया जाय।हुनरमन्द विश्वकर्मा समाज के युवकों को कौशल विकास मिशन योजना में रोजगार आरक्षित किया जाय।भूमिहीन विश्वकर्मा समाज के लोहार बढई को वर्कशाप खोलने के लिये ग्रामसभा की जमीन का पट्टा दिया जाय।सरकार शिल्पकार विकास आयोग का गठन करके शिल्पकार की सभी जातियो लोहार बढई सोनार ठठेरा कसेरा आदि को रोजगार उपलब्ध कराये।विश्वकर्मा समाज पर हो रहे उत्पीडन और अत्याचार को बन्द किया जाय और सरकार उन्हें सामाजिक सुरक्षा उपलब्ध कराये।समाजवादी पार्टी की सरकार में इन मुद्दों पर कानून बनाकर लागू करके विश्वकर्मा समाज का विकास किया गया था परन्तु भाजपा सरकार आने पर  उसे निरस्त कर समाज को उपेक्षित कर दिया गया।
उन्होंने आगे कहा कि आज का कार्यक्रम सरकार को संकेतात्मक चेतावनी स्वरूप है कि विश्वकर्मा समाज की उपेक्षा किसी भी रूप में हमे बर्दाश्त नही है अगर हमे उपेक्षित करने का कार्यक्रम ऐसे ही चलता रहा तो विश्वकर्मा समाज निर्णायक लड़ाई लड़ने को बाध्य होगी ।

No comments:

Post a Comment