Sunday, July 8, 2018

झारखण्ड के जंगलों से विदेशी हथियार बरामद

रांची। हजारीबाग के सिलोधर जंगल से विदेशी हथियार बरामदगी मामले में गुरुवार को गवाही दर्ज की गई। एनआईए के विशेष न्यायाधीश नवनीत कुमार की अदालत में सीबीआई न्यू दिल्ली के प्रिंसिपल साइंटिफिक ऑफिसर बेलास्टिक (सीएफएसएल) एन वर्धन ने गवाही दी।‌गवाही के दौरान उन्होंने जांच रिपोर्ट को अदालत में प्रूफ किया। वहीं, एम 16 राइफल, 5.56 एमएम राइफल, 14 काटिज, 9 mm का एक देसी पिस्तौल, दो 9 mm केएफ काटिज और 5.56 एमएम का एक एमटी मैग्जीन चिन्हित किया गया।
सभी हथियारों का सील बंद बॉक्स खोला गया जिसकी उन्होंने पहचान की। सभी बरामद हथियारों को दिल्ली के सीएफएसएल में जांच के लिए भेजा गया था, जिसकी जांच एन वर्धन ने की थी।इस मामले में अभियुक्त प्रफुल्ल मालाकार, मंटू शर्मा और अनिल कुमार सिंह अदालत में ट्रायल फेस कर रहे हैं। मामले को लेकर एनआइए की टीम ने 2012 में एनआईए कांड संख्या 1/12 के तहत प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू की थी। इसमें तीनों अभियुक्तों के खिलाफ पिछले दिनों चार्जफ्रेम किया गया था, इसमें अब गवाही की प्रक्रिया चल रही है। अभियुक्त मंटू शर्मा दूसरे मामले में लखनऊ जेल में बंद है, जबकि प्रफुल्ल मालाकार और अनिल कुमार सिंह जमानत पर हैं।
एनआईए के विशेष लोक अभियोजक एसआर दास ने बताया कि हजारीबाग के चौपारण स्थित सिलोधर जंगल में विदेशी हथियार की सूचना मिलने पर पुलिस ने छापेमारी की थी। इसमें अनिल कुमार सिंह 9 लाख रुपये के साथ पकड़ाया था। इस छापेमारी में विदेशी हथियार भी बरामद किए गए थे। इस मामले में पहले प्राथमिकी चौपारण थाने में दर्ज की गई थी, बाद में एनआईए की टीम ने 2012 में केस टेकओवर किया था। झारखंड से जुड़ा एनआईए का यह पहला मामला है, जिसमें गवाही की प्रक्रिया शुरू की गई है।

No comments:

Post a Comment