Wednesday, July 4, 2018

गोंडा जब कोतवाली समेत कई आफिसों में अचानक पहुंचे जिलाधिकारी

गोंडा ब्यूरो पवन कुमार द्विवेदी
डीएम कैप्टेन प्रभांशु श्रीवास्तव नेे ताबड़तोड़ कई औचक निरीक्षण किए। दरअसल जिलाधिकारी ने विकास कार्यों को गति देने व कराए गए कार्यों का भौतिक सत्यापन करने के लिए नए सिरे से औचक निरीक्षण का खाका खींचा है जिसके तहत प्रत्येक सम्पूर्ण समाधान दिवस के उपरान्त डीएम, एसपी व सीडीओ द्वारा किसी एक कोतवाली, एक ब्लाक कार्यालय, एक पेयजल परियोजना, एक सीएचसी या पीएचसी का औचक निरीक्षण किया जाएगा तथा किसी एक गांव में चैपाल लगाकर विकास कार्यों का सत्यापन किया जाएगा। नई योजना के तहत जिलाधिकारी ने सम्पूर्ण समाधान के बाद कोतवाली देहात, ब्लाक झंझरी तथा धनईपट्टी पेयजल परियोजना का औचक निरीक्षण किया वहीं विकासखण्ड झंझरी अन्तर्गत ग्राम ताजपुर में पहुंचकर गांव में कराए गए विकास कार्यों का सत्यापन किया। सम्पूर्ण समाधान के समापन के तुरन्त बाद डीएम पुलिस अधीक्षक के साथ थाना कोतवाली देहात औचक निरीक्षण पर पहुंचे। वहां पर डीएम ने इन्स्पेक्टर कोतवाली देहात हर्षवर्धन सिंह सेे सम्पूर्ण समाधान दिवस रजिस्टर व समाधान दिवस रजिस्टर तलब किया और उसका अवलोकन किया। रजिस्टर में ज्यादातर फरियादियों का मोबाइल नम्बर दर्ज नहीं मिला जिस पर डीएम ने हर हाल में फरियादियों का मोबाइल नम्बर दर्ज करने की हिदायत दी। डीएम ने इन्स्पेक्टर देहात को निर्देश दिए कि भूमि विवाद के निपटारों के बाद दोषी पक्ष को कम से कम पांच पांच लाख रूपए के मुचलके से पाबन्द करें तथा खाद्यान्न माफियाओं के खिलाफ भी प्रभावी करने से कतई न हिचकें। यह भी निर्देश दिए कि कहीं भी गोकशी जैसी घटनाएं न होने पावें। थानें में आने वाले लोगों से मानवीय व्यवहार करने का भी निर्देश दिया। इसके बाद डीएम सीधे ब्लाक झंझरी कार्यालय पहुंच गए। वहां पर डीएम ने निरीक्षण किया तो कार्य संतोषजनक नहीं पाया गया। स्वयं बीडीओ की जीपीएफ पास बुक अपडेट नहीं मिली। सरकारी योजनाओं का सही डाटा भी नहीं दे पाए जिस पर डीएम व सीडीओ ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कार्यप्रणाली सुधारने की चेतावनी दी। स्वच्छ भारत मिशन में भी झंझरी ब्लाक की स्थिति बेहद खराब पाई गई। कई याजनाओं में धन होने बावजूद व्यय नहीं होने पर डीएम ने फटकार लगाई। पेंशन योजनाओं के लम्बित आवेदनों की लम्बी लिस्ट पर डीएम ने एक सप्ताह की मोहलत देते हुए सभी लम्बित आवेदनों को निस्तारित करने के निर्देश दिए हैं। समाज कल्याण विभाग की पेंशनयोजना के 432छह आवेदन लम्बित मिले वहीं शौचालय लक्ष्य 36 हजार के सापेक्ष 12 हजार शौचालय ही अभी निर्मित हो सकें हैं। 7040 जाॅबकार्ड के सापेक्ष 6713 कार्डों का सत्यापन पूर्ण पाया गया जबकि 8160 के सापेक्ष 6713 आधार सीडिंग हुआ पाया गया। 383 के सापेक्ष 305 हैण्डपम्प रिपेयर कराए गए। डीएम ने बीडीओ को एक सप्ताह का समय देते हुए सभी चीजें दुरूस्त करने को कहा है। इसके बाद डीएम विकास झंझरी अन्तर्गत ग्राम ताजपुर में विकास कार्यों व लाभार्थीपरक योजनाओं का सत्यापन किया। ताजपुर में सबसे पहले डीएम ने एनआरएलएम द्वारा संचालित स्वयं सहायता समूहों का निरीक्षण तथा तीन स्वयं सहायता समूहों मांलक्ष्मी मिहला स्वयं सहायता समूह, जय मां दुर्गा स्वयं सहायता समूह तथा जय मां काली स्वयं सहायता समूह को तीस-तीस हजार रूपए की सीसीएल स्वीकृति पत्र प्रदान किया। समीक्षामें ज्ञात हुआ कि गांव में कुल नौ स्वयं सहायता समूह चल रहे हैं जिनमें से 8 को पन्द्रह पन्द्रह हजार रूपए का रिवाल्विगं फण्ड दिया जा चुका है। स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं से वार्ता करने के बाद डीएम ने गंाव के ग्राम विकास अधिकारी, सफाईकर्मी, एनएनएम, आंगनबाड़ी कार्यकत्री, आशा बहू तथा लेखपाल को तलब किया सतयापन किया कि वे सब गांव में आते हैं अथवा नहीं। इसके बाद डीएम खाद्यान्न वितरण शौचालय निर्माण, पेशन योजनाओं, टीकाकरण, अवैध कब्जों की स्थिति, सर्व शिक्षा अभियान, पौधरोपण आद की समीक्षा की तथा ग्रामवासियों से अपील किया कि वे सब शौचालय बनवाएं तथा सरकार की योजनाओं का लाभ लेने के साथ स्वच्छता के प्रति जागरूक हों और स्वयं के साथ अपने परिजनों को भी बीमारियों से बचाएं। विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे श्ुद्धस्तर पर विद्युतीकरण का कार्य कराएं जिससे गांव के शेष तीन मजरे भी जल्द से जल्द ऊर्जीकृत हो जाएं। ग्राम चैपाल के बाद डीएम सीधे ग्राम धनईपट््टी पेयजल योजना का औचक निरीक्षण करने पहुचे। वहां पर उन्होने पेयजल परियोजना का निरीक्षण किया ओर ग्रामवासियों से वार्ता की तथा अधिकारियों के सख्त निर्देश दिए पात्रों को सरकार की योजनाओं का लाभ हर हाल दिलाएं।निरीक्षण व के दौरान सीडीओ अशोक कुमार, सीएमओ डा0 संतोष श्रीवास्तव, एसडीएम सदर नन्हे लाल, सीओ सिटी ब्रम्ह सिंह, पीडी प्रशान्त कुमार श्रीवास्तव, डीडीओ रजत यादव, डीपीआरओ घनश्याम सागर, डीसी मनरेगा हश्चिन्द्र प्रजापति, डीसी एनआरएलएम दिनेश यादव, जिला समाज कल्याण अधिकारी अंजनी वर्मा, एक्सईएन जल निगम मुकीम अहमद, डीपीओ जयदीप सिंह, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा0 आर0पी0 यादव, जिला कृषि अधिकारी, बीडीओ झंझरी अजीत मिश्र व अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment