Tuesday, July 3, 2018

हल्की बारिस से ही तालाब बना गोरखपुर का ये सरकारी स्कूल

गोरखपुर गर्मी की छुट्टियों के बाद सोमवार को खुले प्राइमरी स्‍कूलों में पढ़ाई के पहले ही दिन बारिश का पानी भर गया। स्कूलों में हर तरफ गदंगी दिखी, लिहाजा ताला खुलने के बाद पढ़ाई की जगह अधिकतर स्कूलों में साफ-सफाई ही होती रही। कुछ स्कूलों के परिसर में जलजमाव के चलते प्रवेश करना मुश्किल हो गया है। बस्ती के सदर ब्लाक के पूर्व माध्यमिक विद्यालय छबिलहा में सुबह 8.20 पर ताला लटकता मिला। यही हाल कप्तानगंज ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय महाराजगंज का था। गौर ब्लॉक के प्राइमरी गोनहा का परिसर तालाब में तब्दील रहा। किसी तरह शिक्षक तो स्कूल भवन में पहुंचे, लेकिन छात्र संख्या शून्य रही। सांऊघाट के कन्या पूर्व माध्यमिक विद्यालय में 87 में से एक भी छात्राएं स्कूल नहीं पहुंची। परसरामपुर के घुरनपुर में 112 में से 55 छात्र-छात्राएं स्कूल में मौजूद मिले। शहर के प्राइमरी कटरा में महज तीन बच्चे ही आए। सल्टौआ के महनुआ में सुबह 8.30 तक दो शिक्षामित्र स्कूल नहीं पहुंचे थे। प्राथमिक विद्यालय नरायनपुर व खड़ौआ में भी बच्चों के न आने से पढ़ाई ठप रही। बारिश के चलते महराजगंज के भी ज्‍यादातर प्राथमिक विद्यालयों में जलभराव हो गया।* पहले ही दिन सोमवार को शिक्षा व्यवस्था प्रभावित हो गई। शनिवार रात, रविवार पूरे दिन और सोमवार सुबह जिले में करीब 60 एमएम बारिश होने का अनुमान है। बारिश की वजह से बहुत से स्‍कूलों में बच्‍चे नहीं पहुंचे सके। डीएम अमरनाथ उपाध्याय ने सुबह नौ बजे ही सदर क्षेत्र के पांच विद्यालयों का निरीक्षण किया। इसमें सभी में ताला लटका मिला। इस पर उन्होंने बीएसए से जवाब-तलब किया है। 
देवरिया में सोमवार की सुबह से हो रही बारिश का असर परिषदीय स्कूलों की पठन-पाठन की व्यवस्था पर पड़ा। करीब सौ विद्यालय जलजमाव की चपेट में हैं। अन्य स्कूलों में भी बारिश के कारण छात्रों की उपस्थिति काफी कम रही। शिक्षक भी विलंब से पहुंचे।
सिद्धार्थनगर में शनिवार रात से हो रही बारिश का असर परिषदीय स्कूलों की पठन-पाठन व्यवस्था पर पड़ा। भारी बारिश की वजह से अधिकतर विद्यालयों में ताला लटका रहा। जो खुले भी उनमें बच्चों की उपस्थिति न के बराबर रही। तमकुहीराज ब्लॉक के मंझरिया टोला के प्राथमिक विद्यालय में बारिश के कारण पानी लग गया। 

No comments:

Post a Comment