Thursday, August 23, 2018

एस सी एस टी कानून संसोधन पर जन मानस की प्रतिकिया

गोन्डा ब्यूरो पवन कुमार द्विवेदी                                 भाजपा सरकार ने  SC ST कानून में  संशोधन करके अपने ही वोट बैंक में सेंध लगाने का काम किया इसकी आम जनमानस में तीखी प्रतिक्रिया हो रही है  ।एक तरफ सरकार एस टी/एस सी को खुस करने का प्रयास कर रही है वही अन्य जातियां इस कानून के खिलाफ लामबंद हो रही है उससे भाजपा सरकार के सवर्ण व पिछड़ी जातियों के वोट बैंक में गिरावट आ सकती है ।इस समय चाय की दुकानों से लेकर गॉव की गलियों व शहर के चौराहों तक इसी वे चर्चा हो रहा है वही विपक्ष को बैठे बैठाए मुद्दा मिल गया है ।सरकार ने इस चाल को वोट बैंक बढ़ाने के लिए किया है लेकिन कही दॉव उल्टा न पड़ जाय इस पर पुनः विचार करने की जरूरत है ।लोगो का कहना है कि सरकार के सामने कई अन्य मुद्दे है जिसे भी कानून लाकर पारित कराया जा सकता है लेकिन सरकार मामला कोर्ट में कहकर अपना पल्ला झाड़ रही है जबकि इस कानून में सुप्रीम कोर्ट बदलाव के मूड में है ।इससे साफ स्पस्ट है कि सरकार को अपने वोट बैंक से मतलब न कि आम जन मानस के दुख दर्द से ।ऐसे कानून को नही पारित कराया जा रहा जिससे समाज मे भाई चारा आ अमन कायम हो और लोग सुख चैन से रहे है ।ऐसे ऐसे मुद्दे खोज कर लाएंगे की जिससे समाज मे एक दोसरे में प्रति नफरत भाऊ जन्म ले ।सरकार को देश से जात पात को खत्म करने के बारे व सबको समान अधिकार के बारे में विचार करना चाहिये व विपक्ष को भी इस पर सरकार का साथ देना चाहिए जिससे देश मे रहने वाले सभी नागरिक समान रूप से सारे कार्य कर सके व जीवन जी सके ।इस तरह के कानून से जात पात की खाई और मजबूत होगी और एक दोसरे के प्रति नफरत बढ़ेगी ।यह कानून संसोधन किसी भी दृष्टि से सही नही है ।आम लोगो मे इस कानून संसोधन से सरकार व विपक्ष दोनों पर नाराजगी है कि विपक्ष ने भी इस पर कोई आवाज नही उठाई ।

No comments:

Post a Comment