Wednesday, August 22, 2018

कलयुग में लुप्त होती इंसान की इन्शानियत-टैप न्यूज़ इंडिया

मनुष्य अपने कर्मों से अपनी पहचान खोता जा रहा है और उसकी मुख्य पहचान मनुष्यता लुप्त होती जा रही है जो मनुष्य के भविष्य के लिये शुभ नहीं कहा जा सकता है। हर चींज की पहचान उसके गुणों से होती है और उसके गुण ही उसकी पहचान होते हैं।जिस तरह से आम के पेड़ में आम जामुन के पेड़ जामुन नदी में पानी उसकी पहचान होते हैं उसी तरह मनुष्य की मनुष्यता मानवता उसके मनुष्य होने की पहचान होते हैं। अगर आम के पेड़ में नीम जैसे लक्षण परिलक्षित हो तो उसे आम नहीं कहा जा सकता है तो उसी तरह यदि मनुष्य में मानव गुण परिलक्षित नहीं होते हैं तो मनुष्य नहीं माना जा.सकता है और वह मनुष्य की खाल ओढ़े भेड़िए के समान है।यहीं कायण है कि कुछ लोग अपने आपको अपने बाप को एशवं अपनी औकात को भूलते जा रहे है और मनुष्य होते हुये भी नरपशु से बदतर स्थिति हैं।ईश्वर की मनुष्यरूपी रचना सत्यम शिवम सुंदरम एवं अवर्णनीय दया क्षमा शील सदभाव से परिपूर्ण है इसीलिए मनुष्य को ईश्वर का स्वरुप माना जाता है। इतना ही नहीं मनुष्य जब उत्कृष्टता की ओर बढ़ता है तो मानव से महामानव देवमानव बन जाता है और जब मनुष्य में गिरावट आती है तो वह मनुष्य से नर पशु और नर पिशाच बन जाता है। इसीलिए कहा गया कि कभी किसी को अपनी मूल पहचान नहीं खोनी चाहिए क्योंकि एक बार पहचान समाप्त होने के बाद वह दूबारा जल्दी वापस लौटकर नहीं आती है और वापस लाने में बहुत समय लग जाता है।धन्यवाद।। भूलचूक गलती माफ।। सुप्रभात / वंदेमातरम् / गुडमार्निंग / नमस्कार / अदाब / शुभकामनाएं।। ऊँ भूर्भुवः स्वः------/ ऊँ नमः शिवाय।।।

         भोलानाथ मिश्र
वरिष्ठ पत्रकार/समाजसेवी
रामसनेहीघाट, बाराबंकी यूपी।

No comments:

Post a Comment