Saturday, August 25, 2018

अमेरिका का यह डॉक्टर धोखे से करता था महिलाओं को प्रेग्नेंट

अमरीका के इंडियाना मेडिकल इंस्टीट्यूट का है।अमरीका के इंडियाना राज्य में 79 वर्षीय डोनाल्ड क्लिन नपुंसकता और बांझपन का क्लीनिक चलाता था। इस दौरान वह उपचार के लिए महिलाओं को कृत्रिम गर्भाधान की सुविधा मुहैया कराता था। आरोप है कि कृत्रिम गर्भाधान के लिए डॉक्टर अपना ही स्पर्म इस्तेमाल करता था और महिलाओं से झूठ बोलता था कि किसी अनजान स्पर्म डोनर ने अपना स्पर्म डोनेट किया है। इस तरह उसने कई महिलाओं को प्रेग्नेंट किया। जब इस बात का खुलासा हुआ तो चौंकाने वाले तथ्य सामने आये। मामला पुलिस तक गया तो पता चला कि बुजुर्ग डॉक्टर 20 बच्चों का जैविक पिता है।
इस मामले का पता तब चला जब एक महिला को हूबहू डॉक्टर की शकल का बच्चा पैदा हुआ। उसने कोर्ट में जाकर डॉक्टर पर अपने स्पर्म से बच्चे पैदा करने का आरोप लगाया और डीएनए जाँच की मांग की। जांच में साबित हो गया कि डॉक्टर ने उक्त महिला को प्रेग्नेंएट करने के लिए अपने ही स्पर्म का इस्तेमाल किया है। फिर तो डॉक्टर के खिलाफ धीरे-धीरे सभी मामले खुलने लगे। इंडियाना स्टेट मेडिकल लाइसेंस बोर्ड को जब इस बात का पता चला तो उन्होंने आरोपी डोनाल्ड क्लिन का मेडिकल लायसेंस जब्त कर लिया। अमरीकी मेडिकल एसोसिएशन ने डॉक्टर पर ताउम्र मेडिकल प्रैक्टिस करने पर प्रतिबंध लगा दिया।डोनाल्ड क्लिन को हिरासत में लेकर उस पर मेडिकल एथिक्स और मेडिकल रूल्स के मुताबिक मुकदमा चलाया गया। 7 सदस्यीय ज्यूरी ने क्लिन का लायसेंस निरस्त करने को सही ठहराते हुए उसे फिर कभी इंडियाना में लायसेंस के लिए आवेदन न करने का फैसला सुनाया। अदालत में क्लीन ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। क्लिन ने बताया कि उसने अपने ही स्पर्म का इस्तेमाल कर कम से कम 35 महिलाओं को प्रेग्नेंट किया। गुरुवार को इंडियाना क्रिमिनल कोर्ट मे हियरिंग के दौरान उसके 10 जैविक बच्चे अपनी माओं के साथ कोर्ट पहुंचे ।2009 में डोनाल्ड को किसी गैरकानूनी प्रैक्टिस के कारण उन्हें दो साल की सजा सुनाई गई थी। हालांकि बाद में डॉक्टर की उम्र देखते हुए एक साल की सजा निलंबित कर दी गई थी। क्लिन ने अपनी करनी के लिए माफी मांगी। लेकिन उसने ये नहीं बताया कि उसने कितनी बार इस काम को अंजाम दिया था।

No comments:

Post a Comment