Friday, September 21, 2018

एक बार फिर पाकिस्तान का अमानवीय चेहरा आया सामने

एक तरफ तो पाकिस्तान भिखारी की तरह हाथ में कटोरा लिये दुनिया के सामने गिड़गिड़ा रहा है और अपने आतंकी कारखाने को चलाने के लिये दुनिया के सामने प्रधानमंत्री निवास तक गरीबी के चलते नीलाम करने का नाटक कर गिरगिट की तरह रंग बदल रहा है। दुनिया में पाकिस्तान ऐसा इकलौता देश है जहाँ पर आतंंकियों की नर्सरी तैयार करके दुनिया में भेजने का कारोबार किया जाता है और दुनिया में होने वाली अधिकांश आतंकी घटनाओं में अक्सर पाकिस्तानी आतंकी जरूर शामिल होते हैं। पाकिस्तान ऐसा पहला देश है जहाँ पर दुनिया के सभी इस्लामिक आतंक से जुड़े संगठनों के लोग पनाह नही पा रहे हैं बल्कि वह फल फूल और खूनी खेल कर रहे हैं। पाकिस्तान ने गुलाम काश्मीर के सहारे जम्मू काशमीर को विशेष आतंक जोन बना दिया है और भारत में अस्थिरता एवं आतंक फैलाकर जम्मू काश्मीर को हथियाने के उद्देश्य आतंंकियों का लोकल उत्पादन करना शुरू कर दिया है।पाकिस्तानी फौज खुद किसी अमानवीय आंतकी से कम नहीं है क्योंकि वहाँ की सेना एवं आतंकी दोनों की कार्यशैली एक जैसी है।आतंकी इस्लामिक संगठन की तरह पाकिस्तानी फौज भी अन्तर्राष्ट्रीय नियमों के विपरीत हैवानियत की सारी हदें पार कर देती है। बहादुर इतने बड़े हैं कि जब ऐसी घिनौनी हरकतें करते हैं तो चोरों की तरह लुकछिप करते हैं क्योंकि जानते हैं कि सामने ताल ठोंककर आने पर जिंदा वापसी नहीं हो पायेगी। पाकिस्तानी सेना की एक और घिनौनी नापाक दिल दहला देने वाली हरकत दो दिन पहले हमारी सीमा पर हुयी है जिससे एक बार फिर देशवासियों में गुस्से का उबाल आ गया है और सरकार से छत्तिस इंची सीना दिखाकर एक के बदले दस लाने की बात पूरी करने की माँग होने लगी है। हमारी सीमा की सुरक्षा में लगे हमारे बीएसएफ के एक बहादुर जाबाँज रणबांकुरे भारत माता के सच्चे सुपुत्र नरेन्द्र का क्षत विक्षत शव जबसे लावारिस पड़ा मिला है तबसे देश में तीखी प्रतिक्रिया एवं गुस्से का इजहार हो रहा है। पाकिस्तानी फौज एवं सरकार हमेशा की तरह धोयी धायी बछिया की तरह बगुला भक्त बनकर जानकारी तक होने से इंकार कर रही है। पाकिस्तानी सेना ने हमारे सेना के साथ कोई पहली बार ऐसी हरकत नहीं किया है बल्कि अबतक कैप्टन हेमराज जैसे कई सैनिकों के साथ ऐसी गंदी हरकत कर चुका है। हर बार देश में उबाल आता है और सैनिक कार्यवाही करती है लेकिन पाकिस्तान अपनी करतूतों से बाज नहीं आ रहा है। एक तरफ तो वह शांति की दुहाई दे रहा है दूसरी तरफ अशांति एवं आतंक फैलाकर मानवाधिकार नियमों की धज्जियां उड़ाकर विश्व समुदाय को बेवकूफ बना रहा है। उसकी हरकतों से लगता है कि जबतक उसका वजूद रहेगा तबतक वह अपनी आदतों से बाज नहीं आने वाला है इसलिए उसे दुनिया के नक्शे हटाना जरूरी हो गया है। दुनिया से अगर आतंकवाद को समूल नष्ट करना है तो सबसे पहले पाकिस्तान को नष्ट करना जरुरी हो गया है। देश सरकार एवं सेना से शहीद नरेन्द्र के साथ की गई दरिंदगी का तत्काल बदला चाहता है और सरकार का दायित्व बनता है कि वह अपना छत्तीस इंची सीना दिखाकर देशवासियों के आक्रोश को शांत करे। धन्यवाद।। भूलचूक गलती माफ।। सुप्रभात / वंदेमातरम् / गुडमार्निंग / नमस्कार / अदाब / शुभकामनाएं।। ऊँ भूर्भुवः स्वः-----/ ऊँ नमः शिवाय।।
          भोलानाथ मिश्र
वरिष्ठ पत्रकार/समाजसेवी
रामसनेहीघाट, बाराबंकी

No comments:

Post a Comment