Monday, September 10, 2018

प्रधानमंत्री आवास के लाभार्थियों की पासबुक जप्त करने के कारण प्रधानपति और उनके पुत्र पर हुई कार्यवाई

गोन्डा ब्यूरो पवन कुमार द्विवेदी
प्रधानमंत्री आवास के पात्र लाभार्थियों का पैसा देने के बजाय के प्रधानपति व उसके बेटे द्वारा 15 लाभार्थियों की पासबुक धोखे से रख लेने तथा किस्त न देने का मामला प्रदेश के ग्राम्य विकास मंत्री डा0 महेन्द्र सिंह के संज्ञान आने के बाद ग्राम्य विकास मंत्री के आदेश पर डीएम व सीडीओ द्वारा प्रधानपति व उसके बेटे के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया गया है।
मामला विकासखण्ड वजीरगंज की ग्राम पंचायत करदा का है जहंा के प्रधानमंत्री आवास के 15 लाभार्थियों ने प्रधानमंत्री को सम्बोधित प्रार्थनापत्र प्रदेश के ग्राम्य विकासमंत्री को देकर प्रधानपति अतीउल्लाह व उसक बेटे अहसान पर आरोप लगाया कि दोनों द्वारा लाभार्थियों का पैसा उनके खाते आ जाने के बाद भी पैसा निकलवाने का बहाना बनाकर लाभार्थियों की पासबुक रख ली गई और यह कहा गया कि निकासी फार्म पर अंगूठा लगा दो वरना तुम लोग का पैसा वापस करा दूंगा। प्रधानपति द्वारा यह भी कहा गया मैं तुम लोगों को सामान दिलवा दूंगा। लाभार्थियों द्वारा जब अपनी पासबुक वापस मांगी गई तो प्रधानपति द्वारा पासबुक नहीं दी गई। शिकायत का संज्ञान लेते हुए ग्राम्य विकास मंत्री ने डीएम गोण्डा व सीडीओ को जांच कराकर विधिक कार्यवाही करने के आदेश दिए जिसके क्रम में डीएम ने पीडी डीआरडीए व डीसी एनआरएलएम को भेजकर प्रधान के घर पर छापेमारी कराई तो प्रधानपति अतीउल्लाह और उसके बेटे अहसान के पास से सभी 15 लाभर्थियों की पासबुकें बरामद हो गईं। मामले में खण्ड विकास अधिकारी वजीरगंज की तहरीर पर थाना वजीरंगज में प्रधानपति व उसके बेटे के खिलाफ आईपीसी की धाराओं 406 व 411 के तहत मुकदमा दर्ज करा दिया गया है। ग्राम्य विकास मंत्री ने जिलाधिकारी व सीडीओ को निर्देश दिए है कि इस प्रकार के कोई भी मामले आएं तो गम्भीरता पूर्वक जांच कराकर तत्काल विधिक कार्यवाही करें जिससे पात्रों को सरकार की योजना का लाभ मिल सके। यह तो केवल एक बानगी है ऐसे कई ग्राम पंचायतों में हो रहा है ।उसके बाद भी कार्यवाही नही हो रही क्योकि जो विभाग से मिलकर काम करते है वे नही पकड़े जाते है ।यदि जिले का प्रशासनिक अमला ईमानदार है तो ऐसी कई ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधिओ पर कार्यवाही करें ।तभी सरकार की योजना का लाभ पात्र लोगो तक पहुँचेगा ।

No comments:

Post a Comment