Wednesday, October 3, 2018

उज्जैन अग्नि अखाड़े के सभापति गोपालानंद जी हुए ब्रम्हलीन

उज्जैन। अग्नि अखाड़े के सभापति बापू श्री गोपालानंद जी महाराज 117 वर्ष की आयु में मंगलवार की सुबह गुजरात के जूनागढ़ (गिरनार) में स्थित अग्नि अखाड़े में ब्रह्मलीन हो गए। वे लंबे समय से अस्वस्थ थे। गुरुवार को उनका अंतिम संस्कार होगा। गोपालानन्द जी अग्नि अखाड़े के शुरू से सभापति रहे। अग्नि अखाड़े से मां कनकेश्वरी देवी, महामंडलेश्वर कैलाशानंद जी महाराज सहित कई बड़े संत, महंत जुड़े हैं। बापू के ब्रह्मलीन का समाचार मिलते ही देशभर के अखाड़ों के साधु, संत उनके अंतिम दर्शन हेतु जूनागढ़ पहुंच रहे हैं। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के हरी गिरी महाराज भी जूनागढ़ पहुंच गए हैं। ब्रह्मलीन गोपालानंद जी का डोल गुरुवार की सुबह ससम्मान अखाड़े की परंपरा अनुसार निकाला जाएगा। दोपहर में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। अस्वस्थता के चलते 30 सितंबर को उनके निर्देश पर ही अखाड़े में बैठक कर नए सभापति श्री महंत मुक्तानंद जी महाराज जूनागढ़ गुजरात को तथा उज्जैन के श्री महंत सुदामानंद महाराज लाल बाबा को महामंत्री नियुक्त कर अखाड़े की जिम्मेदारी सौपी गई थी।
-

No comments:

Post a Comment