Thursday, October 4, 2018

जेलर के हत्यारे गैंगेस्टर अखिलेश का मिला बैग बना गले की हड्डी

झारखंड के जमशेदपुर का कुख्यात गैंगस्टर अखिलेश सिंह वैसे तो जेलर उमाकांत पांडेय हत्याकांड में आजीवन कारावास की सजा काट रहा है। लेकिन उसने अपराध की काली कमाई से बेहिसाब संपत्ति बनाई है।प्रवर्तन निदेशालय ने पहले उसकी संपत्ति का पता लगाया और अब उसे अपने कब्जे में लेना शुरू कर दिया है। अखिलेश के गुनाहों की लंबी सूची है। आप इसकी संपत्ति के बारे में जानेंगे तो दंग रह जाएंगे।
दरअसल, सृष्टि गार्डेन में मिला काला बैग गैंगस्टर अखिलेश सिंह के गले की फांस बना। पुलिस उस बैग में मिले दस्तावेजों के सहारे देहरादून और जबलपुर तक जाकर उस पर शिकंजा कसना शुरू किया। अखिलेश सिंह के खिलाफ देहरादून के कोतवाली और मध्यप्रदेशके जबलपुर के थाना में पुलिस निरीक्षक सह यातायात थाना साकची के प्रभारी परम प्यारेलाल खलखो की ओर से दर्ज कराई गई प्राथमिकी में इस काले बैग का पूरी कहानी प्रस्तुत कर दी।वर्ष 2017 के मार्च महीने की 29 तारीख को जमशेदपुर के तत्कालीन सिटी डीएसपी अनिमेष नैथानी को गुप्त सूचना मिली कि गैंगस्टर अखिलेश सिंह अपने गैंग के कुछ साथियों के बिरसानगर सृष्टि गार्डेन अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 503 में ठहरा हुआ है। पुलिस ने फौरन वहां छापेमारी की। पुलिस के आने की भनक पाकर आनन फानन में अखिलेश अपने साथियों के साथ वहां से निकल भागा, लेकिन उसका काला बैग फ्लैट में ही छूट गया। इस काले रंग के बैग में विभिन्न प्रकार के कागजात मिले, जिसके आधार पर पुलिस ने जांच का दायरा आगे बढ़ाया और फर्जीवाड़े के जरिए अखिलेश सिंह द्वारा खरीदी गई अकूत संपत्ति के बारे में पुख्ता जानकारी जुटाई।बैग में कई दस्तावेज व प्रमाण पत्र मिले, जिन पर नाम अलग-अलग लिखे हुए थे। जमीन एवं मकान से संबंधित बिक्री दस्तावेज, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, पासबुक, चैक बुक जैसे कागजात पर कहीं संजय सिंहतो कहीं अजीत सिंह लिखा हुआ था, लेकिन फोटो की जगह अखिलेश सिंह की तस्वीर लगी थी।

No comments:

Post a Comment