Wednesday, October 17, 2018

नारी का सम्मान करो मत इसका अपमान करो मीट टू

  इतिहास गवाह है कि जब जब इस धरती पर नारी को भोग्या बनाने का प्रयास हुआ है तब तब महाभारत जैसा महायुद्ध एवं महाविनाश हुआ है वह चाहे सीताजी को लेकर राम रावण के बीच हुआ हो चाहे द्रोपदी को कौरवों एवं पाण्डवों के बीच हुआ हो या जगतजननी नवदुर्गा एवं राक्षसों के मध्य रहा हो। नारी को आदिकाल से शक्तिस्वरूपा देवी समान माना गया है और कन्याओं को साक्षात दुर्गा का स्वरूप मानकर कन्या भोज कराया जाता है। कलियुग में नारी देवी शक्तिस्वरूपा नहीं बल्कि कामवासना तृप्ति का एकमात्र माध्यम मान लिया गया है और और दुनिया भर में उनकी मजबूरियों का फायदा उठाकर यौन प्रताड़ना की जा रही है।इधर नौकरी के नाम महिलाओं के यौन प्रताड़ना करने का जैसे रिवाज होता जा रहा है चाहे वह सरकारी सेक्टर हो चाहे प्राइवेट सेक्टर हो हर जगह नौकरी के लिए महिलाओं को यौन उत्पीड़न का दंश झेलना पड़ता है। नौकरी देने एवं नौकरी बरकरार रखने के नाम पर उनका शोषण करने का दौर लम्बे अरसे से चल रहा है और शायद यह पहला मौका है जबकि यौन प्रताड़ना की शिकार महिलाओं को आमजनता के सामने सोशल मीडिया के माध्यम से अपना दर्द व्यक्त करने का अवसर मिला है।इस समय जबकि पूरा जनमानस नवरात्रि में नारी शक्ति के रूप नवदुर्गा के विभिन्न स्वरूपों के सामने लोग  नतमस्तक है ऐसे समय यौन प्रताड़ना की शिकार महिलाओं का मीट टू अभियान चलाया जा रहा है और तमाम मीट टू के मामले सोशल मीडिया के जरिए अबतक सामने आ चुके हैं। नवरात्रि शुरू होते ही केन्द्र सरकार के एक मंत्री भी इस मीट टू अभियान से घिर गये हैं और बचाव में सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गये हैं। आरोपित केन्द्रीय मंत्री एम जे अकबर पर मीट टू के तहत यौन प्रताड़ना करने का लगाया गया आरोप उस समय का है जबकि वह देश के जाने माने वरिष्ठ पत्रकार थे और पत्रकारों की नियुक्ति करने का अधिकार उनके पास था। उन पर एक नहीं करीब एक दर्जन पत्रकार महिलाओं ने नौकरी के नाम पर यौन प्रताड़ना करने का आरोप लगाया है। इसके बाद राजनैतिक गलियारों में एक तूफान सा आ गया है और केन्द्रीय मंत्री के खिलाफ आंदोलन प्रदर्शन के साथ इस्तीफा देने की माँग होने लगी है।सपा बसपा कांग्रेस सभी सरकार पर हमलावर होकर मंत्री को बचाने का आरोप लगा रहे हैं। खासबात यह है कि इस मीट टू अभियान में देश दुनिया के जितने भी लोग आरोपित किये गये हैं सभी शिक्षित उचित पदों पर आसीन हैं और सभी जिम्मेदार नियुक्ति करने का अधिकार रखने वाले गणमान्य लोग शामिल हैं।इस मीट टू अभियान से उनके चेहरे बेनकाब होने लगे हैं और दुनिया भर में यह अभियान चर्चा का विषय बन गया है। केन्द्रीय मंत्री पर अभी हाल में आरोप लगाने वाली महिला पत्रकार प्रियंका रमानी का कहना है कि यह घटना बीस साल पहले उस समय हुयी थी जब वह उनके साथ पत्रकारिता करती थी। आरोपी मंत्री इसे सरासर झूठा शरारतपूर्ण श्रंखलाबद्ध प्रेरित पूर्व नियोजित कुचक्र मान रहे हैं और उन्होंने गवाहों सबूतों के साथ सर्वोच्च न्यायालय से न्याय की गुहार लगाई है। दूसरी तरफ आरोप लगाने वाली महिला पत्रकार ने कहा कि वह सच के सहारे मानहानि के मुकदमें का सामना करूँगी।आरोपी एम जे अकबर भले ही आज चोला बदलकर वरिष्ठ पत्रकार से वरिष्ठ राजनेता बन गये हो लेकिन उन पर आरोपों की झड़ी लगने के बाद पत्रकार जगत को गहरा आघात लगा है। महिलाओं के आरोपों के बाद यह बात जगजाहिर हो गयी है कि पत्रकारिता क्षेत्र में किस कदर गिरावट आई है।
           भोलानाथ मिश्र
वरिष्ठ पत्रकार/समाजसेवी
रामसनेहीघाट, बाराबंकी यूपी

No comments:

Post a Comment