Thursday, October 18, 2018

दुर्गाष्टमी के अवसर पर जिला प्रशासन ने की एक नई पहल

गोन्डा ब्यूरो पवन कुमार द्विवेदी

दुर्गाष्टमी के अवसर पर जिला प्रशासन ने की अनूठी पहल, 1351 कन्याओं का पूजन कर बेटी बचाओ बेटी पढा़ओ का दिया संदेशविधायक सदर सहित आला अधिकारियों ने कन्याओं का किया पूजनशक्ति उपासना के पवित्र दिन नवरत्रि महादुर्गाष्टमी के अवसर पर जिला प्रशासन गोण्डा द्वारा अभिनव पहल करते हुए ऐतिहासक रूप से 1351 कन्याओं का पूजन किया गया और बेटियों को बचाने, सशक्त बनाने एवं उनका लिंगानुपात बढ़ाने के लिए एक बृहद सन्देश दिया गया। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के नारे के साथ नगर के शहीदे आजम सरगदार भगत सिंह इन्टर कालेज से अम्बेडकर चैराहा स्थित बेन्कटाचार क्लब तक विधायक सदर, डीएम, एसपी व सीडीओ की अगुवाई में विशाल रैली निकाली गई जिसमें स्कूलों की बच्चियों ने प्रतिभाग किया।
जिला प्रशासन की पहल पर प्रोबेशन विभाग द्वारा बेन्कटाचार क्लब में आयोजित कन्या पूजन कार्यक्रम में विधायक सदर प्रतीक भूषण सिंह, मण्डलायुक्त सुधेश कुमार ओझा, डीआईजी देवीपाटन परिक्षेत्र अनिल कुमार राय, डीएम कैप्टेन प्रभान्शु श्रीवास्तव, एसपी लल्लन सिंह, सीडीओ गोण्डा अशोक कुमार, एडीएम रत्नकार मिश्र, सीआरओ कुन्ज बिहारी अग्रवाल, सिटी मजिस्ट्रेट सुभाषचन्द्र प्रजापति, कन्या पूजन कार्यक्रम के आयोजक जिला प्रोबेशन अधिकारी जयदीप सिंह, सहयोगी जिला समाज कल्याण अधिकारी अंजनी वर्मा सहित तमाम अधिकारियों द्वारा विधिवत हवन पूजन किया गया तथा 1351 कन्याओं रोली चन्दन लगाकर एवं अंग वस्त्र भेंटकर कर पूजन किया गया। सभी कन्याओं को पाठ्य सामग्री, लन्च पैकेट तथा दक्षिणा भेंट की गई। व्यवसाई सुरेन्द्र गुलाटी व रंगेश अग्रवाल द्वारा सभी कन्याओं को ग्यारह-ग्यारह रूपए दक्षिणा रूवरूप भेंट किया गया। इस अवसर पर विधायक सदर ने बच्चियों से आहवान करते हुए कहा कि वे सब संकल्प लें कि जब वे युवा होगीं और किसी भी घर की बहू बनेंगी तो कभी भी परिवार वालों तथा स्वयं भी बेटियों से भेदभाव नहीं करेगी और न किसी को करने देगीं। महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण का समर्थन करते हुए उन्होने जिला प्रशासन की अनूठी पहल पर बधाई और सराहना व्यक्त की और कहा कि दुर्गाष्टमी के अवसर पर नारी शक्तियों की पूजा और बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं अभियान को गति देने वाला यह जिला प्रशासन का यह कार्य अत्यन्त सरहानीय है। आयुक्त सुधेश कुमार ओझा ने कहा कि घर में बेटियां न हों तो प्रेम का अभाव हो जाता है। उन्होने कहा कि बेटियां नहीं होगी तो समाज की परिकल्पना ही नहीं की जा सकती है। इसलिए बेटियों को शिक्षित बनाने के साथ-साथ उनके जन्म में भी भेदभाव समाप्त करना होगा। डीआईजी ए0के0 राय ने कहा कि भारतीय संविधान में महिला व पुरूषों दोनों को बराबर का अधिकार दिया गया है परन्तु विडम्बना ही है कि आज भी हमारा समाज पुरूष प्रधान है तथा समाज के सारे नियम कानून व बन्दिशें महिलाओं पर ही लागू किए जाते हैं। महिलाओं का घटता लिंगानुपात चिन्ता का विषय है। उन्होने कहा कि देश में आज भी सफल महिलाओं की लिस्ट में महिलाओं की सख्ंया हाशिए पर है। इसलिए हमें बेटियों को बचाना होगा और उन्हें बराबर का अधिकार देना होगा। डीएम कैप्टेन प्रभान्शु श्रीवास्तव ने बच्चियों तथा अध्यापिकाओं तथा अन्य सम्भ्रान्तजनों का आहवान करते हुए कहा कि वे इस संदेश को आन्दोलन बना दें और जन-जन तक बेटियों को बचाने का संदेश पहुंचाने का काम करें। शक्ति उपासना के दौरान कन्याओं का पूजन और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संकल्प एवं संदेश इसी उद्देश्य से शुरू किया गया है। उन्होने कहा कि इस अभियान को औरर गति देना है तथा लोगों को बेटियों के प्रति जागरूक करना है। कार्यक्रम का संचालन सीडीओ अशोक कुमार ने किया।
इस दौरान संयुक्त विकास अयाुक्त देवीपाटन मण्डल वी0के0 पाठक, बीएसए मनीराम सिंह, जिला विद्यालय निरीक्षक अनूप श्रीवास्तव, जिला समन्वयक कस्तूरबा गांधी विद्यालय रजनी श्रीवास्तव, जिला कार्यक्रम अधिकारी दिलीप पाण्डेय, सभी खण्ड शिक्षा अधिकारी, डा0 उमा सिंह, जिला व्यायाम शिक्षक संजय सिंह सहित तमाम अध्यापक अध्यापिकाएं व अभिभावक मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment