Wednesday, November 14, 2018

राजस्थानी बेजेपी नेता ने पार्टी को बोला बाय बाय

राजस्थान में विधानसभा चुनावों से पहले ही भाजपा में बगावत के सुर फूटने शुरू हो गए हैं। जैतारण विधानसभा क्षेत्र से विधायक और मंत्री सुरेंद्र गोयल ने भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देने का ऐलान किया है।बता दें कि सुरेंद्र गोयल को मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का काफी करीबी माना जाता है। लेकिन माना जा रहा है कि इस विधानसभा चुनावो में अपना टिकट काटे जाने से नाराज होकर उन्होंने ये फैसला उठाया है।विधानसभा चुनावों से ऐन पहले मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के सामने 60 सीटों के लिए उम्मीदवारों के नामों की प्रस्तावित लिस्ट रखी थी। बताया जाता है कि इस लिस्ट में सभी नाम सीएम वसुंधरा राजे के प्रति समर्पित रहने वाले नेताओं के ​ही थे। वसुंधरा राजे ने ये लिस्ट पार्टी की चुनावी बैठक के दौरान रखी थी। अमित शाह ने इस लिस्ट को वहीं खारिज कर दिया।पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कोर कमिटी से दोबारा लिस्ट बनाने के लिए कहा है। अमित शाह का जोर इस बात पर भी है कि टिकट पार्टी के उन जमीनी कार्यकर्ताओं को मिले, जिनका जनाधार भी अच्छा हो। बता दें कि इस कोर कमिटी में ज्यादातर नेता सीएम वसुंधरा राजे के विरोधी खेमे से आते हैं। वहीं भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने भी पांच सालों तक सीएम वसुंधरा राजे की हठ को सहा है। राजे ने प्रदेश अध्यक्ष से लेकर हर महत्वपूर्ण पद पर उस शख्स को काबिज करवाया जो पार्टी से पहले उनका वफादार था। शाह की कोशिश है कि अब प्रदेश में नेताओं को पार्टी से बड़ा बनने से रोका जाए

No comments:

Post a Comment